टीपू सुल्तान मस्जिद के इमाम ने कहा लाल बत्ती का इस्तेमाल करना मेरा हक


कोलकाता: लाल बत्ती के इस्तेमाल पर केंद सरकार की पाबंदी की अवज्ञा करते हुए टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना नूर-उर-रहमान बरकती ने आज कहा कि वह किसी आदेश के पालन के लिए बाध्य नहीं हैं और धार्मिक नेता के तौर पर लाल बत्ती का इस्तेमाल करना उनका अधिकार है।

बरकती ने पीटीआई से कहा मैं धार्मिक नेता हूं और मैं पिछले कई दशक से लाल बत्ती का इस्तेमाल कर रहा हूं। मैं केंद के आदेश का पालन नहीं करता। वो मुझे आदेश देने वाले कौन होते हैं? बंगाल में केवल राज्य सरकार के आदेश ही प्रभावी हैं। मैं लाल बत्ती का इस्तेमाल करऊंगा। बंगाल में किसी ने लाल बत्ती नहीं हटाई है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वीआईपी संस्कृति को समाप्त करने के लिए फैसला किया था कि एक मई से सभी वाहनों से लाल बत्ती हटा ली जाएगी।

केंद्रीय मंत्रिमंडल के आदेश की अवहेलना करने पर प्रदेश भाजपा ने इमाम की तीखी निंदा की है। प्रदेश भाजपा की सचिव लॉकेट चटर्जी ने कहा केंद सरकार के फैसले की अवहेलना करने का दुस्साहस उनमें कहां से आया? राज्य सरकार को उनके खिलाफ तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए। केवल अल्पसंख्यक समुदाय का होने से उन्हें मनमर्जी करने का हक नहीं मिल जाता। कोलकाता पुलिस ने बरकती द्वारा लाल बत्ती का इस्तेमाल करने के विषय पर कुछ भी कहने से इनकार किया। पुलिस ने केवल इतना कहा कि उसे इसकी जानकारी नहीं है।

(भाषा)