दार्जिलिंग पहाड़ों में अनिश्चितकालीन बंद जारी


दार्जिलिंग : आज लगातार सातवें दिन भी जीजेएम प्रायोजित बंद जारी रहा। इंटरनेट सेवाएं भी ठप रहीं और सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ। पुलिस और सुरक्षा बलों ने पहाड़ी क्षेत्रों में गश्त की। इसके अलावा पुलिस और सुरक्षा बलों ने पहाड़ी क्षेत्रों में गश्त की। इसके अलावा दार्जिलिंग के प्रवेश और निकासी मार्गों पर पुलिस ने नाकेबंदी की। दवा की दुकानों को छोड़कर अन्य दुकानें, होटल तथा रेस्टोरें बंद रहे।

                                                                                          Source

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) द्वारा कल बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में यह फैसला लिया गया कि सुरक्षा बलों के हटाए जाने तक दार्जिलिंग पहाड़ियों में अनिश्चितकालीन बंद जारी रहेगा। अलग गोरखालैंड की मांग को लेकर 8 जून से आंदोलन कर रहे जीजेएम ने गोरखा क्षेत्रीय प्रशासन (जीटीए)पर त्रिपक्षीय समझौते से बाहर होने का भी फैसला किया है।

                                                                                                  Source

दार्जिलिंग से 65 किमी दूर नक्सलबाड़ी इलाके में चाय बागान के कामगारों को जीजेएम समर्थकों द्वारा पीटने की खबरें भी हैं हालांकि जीजेएम ने इससे इनकार किया है। अलग राज्य की मांग को लेकर जीजेएम ने विभिन्न पहाड़ी इलाकों में छोटी-छोटी रैलियां निकालीं। पहाड़ों में लगातार चौथे दिन भी इंटरनेट सेवा ठप रही। स्थानीय लोगों ने इसे “लोकतांत्रिक आंदोलन के खिलाफ दमनकारी कदम” बताया।

                                                                                                   Source

कल की बैठक में शामिल होने वाले दलों ने पहाड़ी में जारी हालात पर चर्चा के लिए 22 जून को पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में भाग नहीं लेने का फैसला लिया है। जीजेएम प्रवक्ता टी अर्जुन ने बैठक के बाद संवाददाताओं को बताया कि इसमें एक सर्वदलीय समन्वय समिति के गठन का फैसला हुआ है जो जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करने के लिए प्रतिनिधिमंडल को भेजेगा ताकि अलग गोरखालैंड की मांग को लेकर दबाव बनाया जा सके।