सुशासन के जरिये जीवंत लोकतंत्र संभव है : रिजीजू


इटानगर : केंद्रीय मंत्री किरेन रिजीजू ने आज कहा कि सुशासन के जरिये जीवंत लोकतंत्र संभव है। रिजीजू ने यहां विधानसभा की नयी इमारत में विशेष सत्र की पहली बैठक की शुरूआत के मौके पर सत्र पूर्व बैठक में कहा, ”एक जीवंत लोकतंत्र सुशासन के जरिये संभव है और जवाबदेही होने पर सुशासन तब वास्तविकता का रूप लेता है। “केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा, ”अगर किसी संस्था के महत्व पर ध्यान नहीं दिया गया तो एक ऊंची शानदार इमारत का कोई मलतब नहीं होगा।” उन्होंने सदन के हर सदस्य से संस्था का सार्थक इस्तेमाल करने और राज्य एवं उसके लोगों के भले के लिए उन्हें मिले विशेषाधिकर का अधिकतम लाभ उठाने को कहा।

रिजीजू ने सदस्यों से शासन के संसदीय रूप का सम्मान करने के लिए पारंपरिक लोकतांत्रिक आदर्शों को बनाए रखने की भी अपील की। वहीं मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने विधानसभा के सदस्यों से कानून का निर्माण करने वाली राज्य की सर्वोच्च संस्था की शुचिता को बनाए रखने और अरूणाचल प्रदेश विधानसभा को देश में सर्वश्रेठ बनाने की दिशा में काम करने का आह्वान किया। उन्होंने सदस्यों को बदलाव के चरण का हिस्सा बनने के लिए ऐतिहासिक दिन पर बधाई देते हुए कहा कि यह अरूणाचल प्रदेश के इतिहास में एक नये अध्याय की शुरूआत है।

– भाषा