ममता ने ब्रिटेन के उद्यमियों को पश्चिम बंगाल में निवेश के लिये आमंत्रित किया


mamta banerjee

लंदन : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य को आकर्षक निवेश स्थान बताते हुये ब्रिटेन से उसके यूरोपीय संघ से अलग होने के बाद के दौर में निवेश बढ़ने पर जोर दिया। ममता ने कहा कि पश्चिम बंगाल ब्रिटेन के उद्यमियों के लिये बड़ आधार रहा है, यह उनके लिये पूर्वोत्तर क्षेत्र के द्वार के तौर पर काम करता है। ममता यहां बंगाल में निवेश अवसर पर आयोजित बैठक को संबोधित कर रही थी। वह बंगाल में निवेशकों को आमंत्रित करने के लिये एक सप्ताह की यात्रा पर यहां पहुंची हैं। उन्होंने कहा, बंगाल पूर्वोत्तर क्षेत्र का द्वार है। हमारा कौशल, प्रतिभा और प्रौद्योगिकी फायदेमंद है, इससे राज्य ब्रिटेन के व्यावसायियों के लिये एक बड़ आधार बन जाता है।

बैठक का आयोजन ब्रिटेन- भारत व्यावसायिक परिषद और भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग मंडल महासंघ (फिक्की) ने मिलकर किया। ममता ने ब्रिटेन-भारत व्यावसायिक परिषद को जनवरी 2018 में कोलकाता में होने वाली बंगाल वैश्विक व्यावसायिक शिखर सम्मेलन में प्रतिनिधमंडल के साथ भाग लेने के लिये आमंत्रित किया। उन्होंने कहा, बंगाल के नागरिक अपना आतित्य सत्कार दिखाने के लिये उत्सुकता के साथ आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। आईये मिलकर काम करते हैं। मेरा मानना है कि यदि कारोबार के रास्ते में कोई समस्या आती है, तो उसका समाधान भी है।

 ब्रिटेन-भारत व्यावसायिक परिषद के चेयरमैन लार्ड डेवीज ने इस अवसर पर कहा कि पश्चिम बंगाल के एक प्रमुख निवेश केन्द, के तौर पर संभावना को लेकर वह पूरी तरह से संतुष्ट हैं। इस अवसर पर उन्होंने राज्य में स्टार्ट अप को बढ़वा देने के लिये शंकुल आधारित कार्ययोजना का विशेष तौर पर उल्लेख किया। उन्होंने कहा, यह (पश्चिम बंगाल) एक अतुलनीय सफल कहानी है। राज्य के विथ, वाणिज्य और उद्योग मंत्री अमित मित्रा ने पश्चिम बंगाल में काम कर रहे उद्यमियों से अपने अनुभव बताने को कहा। ब्रिटेन की यात्रा पर गये राज्य सरकार के प्रतिनिधिमंडल में अंबुजा नेवतिया समूह के चेयरमैन हर्षवर्धन नेवतिया, रिलायंस समूह के तरुण झुनझुनवाला, लक्ष्मी समूह के रुद, चटर्जी, ग्रेट ईस्टर्न एनर्जी कार्प के सीईओ वाई.के। मोदी सहित अन्य उद्यमी शामिल हैं।