मिजोरम के राजनैतिक दलों, एनजीओ ने पीएमओ को ज्ञापन सौंपा


एजल, (भाषा): मिजोरम के सभी बड़े राजनैतिक दलों, एनजीओ और छात्र संघों ने पड़ोसी मणिपुर में रह रहे मिजो समुदाय के भविष्य के संबंध में एक संयुक्त ज्ञापन प्रधानमंत्री कार्यालय को सौंपा है। मिजो जिरलाई पॉल ने आज यह बात कही। एमजेडपी या मिजो छात्र संघ ने सभी राजनैतिक दलों, एनजीओ और छात्र निकायों द्वारा हस्ताक्षरित ज्ञापन पीएमओ को कल सौंपा और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्र और एनएससीएन (आईएम) के बीच वार्ता में केंद्र की तरफ से वार्ताकार आर.एन. रवि को इस ज्ञापन की प्रतियां सौंपीं।

ज्ञापन में केंद्र से अनुरोध किया गया कि मणिपुर के पहाड़ी इलाकों में रह रहे मिजो लोगों की राजनैतिक समस्याओं का समाधान किये बिना नगा मसौदा समझौते को अंतिम रूप नहीं दिया जाए। ज्ञापन में कहा गया कि केंद्र और एनएससीएन (आईएम) के बीच चल रही शांति वार्ता का पड़ोसी मणिपुर में रह रहे मिजो लोगों पर प्रभाव पडऩे की संभावना है।

ज्ञापन में कहा गया है कि अगर मणिपुर में बसे नगाओं को विशेष स्वायत्तता दी जाती है तो ऐसी स्वायत्तता उस राज्य में बसे मिजो नागरिकों को भी दी जानी चाहिए। ज्ञापन में कहा गया है कि अगर मणिपुर में बसे नगा क्षेत्रों को नगा समझौते के प्रावधानों के जरिये नगालिम में शामिल किया जाता है तो मणिपुर में बसे मिजो लोगों के क्षेत्रों को भी शामिल किया जाना चाहिए ताकि पड़ोसी राज्य में रह रहे मिजो लोग अधिक जनसंख्या वाली जाति में सम्मिलित नहीं हो जाए।