नागालैंड छह महीने के लिये ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित


नई दिल्ली, (भाषा) : केन्द्र सरकार ने देश के पूर्वाेत्तर राज्य नागालैंड को अशांत क्षेत्र घोषित किये जाने की अवधि को छह महीने के लिये बढ़ा दिया है। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने 30 जून को इस आशय की अधिसूचना जारी कर दी है। मंत्रालय में पूर्वाेत्तर मामलों से जुड़े संयुक्त सचिव सत्येन्द्र गर्ग द्वारा जारी अधिसूचना में नागालैंड की सीमा के भीतर आने वाले सम्पूर्ण क्षेत्र में अशांत और खतरनाक स्थिति का हवाला देते हुये पूरे राज्य को अशांत क्षेत्र घोषित किया गया है।

इससे पहले 30 दिसंबर 2016 को जारी पूर्व अधिसूचना में छह महीने के लिये नागालैंड को अशांत क्षेत्र घोषित किया गया था। इसकी समय सीमा 30 जून को खत्म हो रही थी। इससे पहले 30 जून 2015 को सरकार ने एक साल के लिये नागालैंड को अशांत क्षेत्र घोषित किया था। जबकि जुलाई 2016 से छह-छह महीने के लिये यह अवधि बढ़ाई जा रही है।

नई अधिसूचना के मुताबिक ‘केन्द्र सरकार का यह मत है कि सम्पूर्ण नागालैंड राज्य की सीमा के भीतर आने वाला क्षेत्र ऐसी अशांत और खतरनाक स्थिति में है जिससे वहां नागरिक प्रशासन की सहायता के लिये सशस्त्र बलों का प्रयोग करना आवश्यक है।’ इसके मद्देनजर मंत्रालय ने सशस्त्र बल (विशेषाधिकार) अधिनियम 1958 के तहत सम्पूर्ण नागालैंड राज्य को 30 जून से अगले छह महीने के लिये ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित कर दिया।