विपक्षी दलों ने हिंसा का आरोप लगाया, चुनाव रद्द कराने की मांग की


कोलकाता: तृणमूल कांग्रेस द्वारा बड़े पैमाने पर बूथ कब्जा और हिंसा करने का आरोप लगाते हुये पश्चिम बंगाल में सभी विपक्षी दलों ने आज हुये सात नगरपालिका निकायों के चुनावों को रद्द कराने की मांग की। वामदलों और कांग्रेस के प्रतिनिधियों ने राज्य निर्वाचन आयोग पर स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनावों में विफल रहने का आरोप लगाते हुये उसके दफ्तर के बाहर सड़क जाम की और धरना दिया।

माकपा के राज्य सचिव सूर्यकांत मिश्रा ने यहां संवाददाताओं को बताया, ”हम चाहते हैं कि चुनावों को रद्द किया जाना चाहिये क्योंकि सत्ताधारी पार्टी ने उन सभी जगहों पर हिंसा की जहां आज चुनाव हुये है।” उन्होंने दावा किया कि यह चुनाव सिर्फ एक मजाक बनकर रह गये हैं। उन्होंने कहा, ”तृणमूल कांग्रेस से जुड़े उपद्रवी हर किसी को बंदूक, बम और दूसरे हथियारों से डरा रहे थे फिर चाहे वह मतदाता हो, उम्मीदवार या उनके एजेंट, पुलिस और पत्रकार।” मिश्रा ने दावा किया कि तीन माकपा समर्थक दक्षिण 24 परगना जिले के पुजाली में उपद्रवियों द्वारा की गई फायरिंग में घायल हो गये। आज यहां भी चुनाव था।

-भाषा