प. बंगाल एकमात्र राज्य जिसने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना को अंगीकार नहीं किया


नई दिल्ली, (भाषा): महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने आज कहा कि पश्चिम बंगाल एकमात्र ऐसा राज्य है जिसने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना को अंगीकार नहीं किया है जिसके कारण आज कोलकाता के लिंगानुपात में गिरावट आई है और इसका प्रदर्शन सबसे खराब जिलों में शामिल हैं। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान तृणमूल कांग्रेस के एक सांसद ने पूरक प्रश्न पूछते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार ने सुकन्या योजना शुरू की और इसकी सभी ओर प्रशंसा की गई।

संयुक्त राष्ट्र ने इस योजना को सबसे बेहतर योजना के रूप में पुरस्कृत किया। मेनका गांधी ने कहा कि सुकन्या योजना अच्छी योजना है लेकिन कई राज्यों ने ऐसी योजना शुरू की है और इन सभी का प्रदर्शन अच्छा रहा है। मध्यप्रदेश ने लाडली लक्ष्मी योजना, झारखंड ने लाडली योजना, गोवा ने ममता योजना, महाराष्ट्र ने माझी कन्या योजना के अलावा आंध्रप्रदेश, गुजरात, राजस्थान में भी ऐसी ही योजना चल रही है। और इनका प्रदर्शन काफी अच्छा है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि लेकिन पश्चिम बंगाल एकमात्र ऐसा राज्य है जिसने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना को अंगीकार नहीं किया है जिसके कारण आज कोलकाता के लिंगानुपात में गिरावट आई है और इसका प्रदर्शन सबसे खराब जिलों में हैं। उन्होंने कहा कि यह योजना राजनीतिक नहीं है, इससे अंतत: बालिकाओं को ही फायदा होना है। इसलिए मैं पश्चिम बंगाल से आग्रह करूंगी कि इसे स्वीकार करके आगे बढ़ाये।