आजसू ने मनाया बलिदान दिवस


रांची : आजसू पार्टी द्वारा राज्य के सभी प्रखंडों में बलिदान दिवस मनाया गया। इस मौके पर कार्यकर्ताओं ने झारखंड आंदोलन के वीर सपूतों को नमन किया। पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो सिल्ली में आयोजित बलिदान दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने कार्यकर्ताओं को वीर सपूतों और शहीदों के सपनों के अनुरूप झारखंड बनाने के लिये संघर्ष जारी रखने का आह्वान किया।

श्री महतो ने कहा कि एक आंदोलनकारी संगठन से एक राजनीतिक दल तक की अपनी यात्रा आजसू पार्टी ने संघर्ष, बलिदान एवं कुर्बानियों के पीड़ादायक पगडंडियों से होकर तय की है। हमने जंगलों में रातें बितायीं हैं। शोषणकारी सरकारी तंत्र का जुल्म झेला है। मेरे भाइयों ने अलग झारखण्ड के लिये बंदूक की गोलियां खायी हैं। मेरे क्रांतिकारी साथियों ने अपने प्राण न्यौछावर किये हैं। विधवा हुई बहनों के क्रंदन की गूंज मुझे अभी भी सुनायी दे रही है।

यात्रा अभी शेष है। वर्तमान सरकार के कुछ निर्णयों के खिलाफ झारखण्डियों की सूनी आंखों में आक्रोश की ज्वाला की तेज साफ-साफ देखी जा सकती है। इस कार्यक्रम का नेतृत्व अनिल टाइगर, मुनचुन राय, हरीश कुमार, ललित ओझा एवं गौतम सिंह कर रहे थे। रांची जिलाध्यक्ष अनिल टाईगर ने कहा कि आजसू नहीं होता तो झारखण्ड अलग राज्य नहीं होता। आजसू के कार्यकर्ताओं ने जेल, लाठी, डंडा खाए और कई लोग शहीद भी हुए।

जुगसलाई के बोड़ाम में पार्टी विधायक रामचंद्र सहिस ने बलिदान दिवस को संबोधित करते हुए कहा कि इस कि झारखण्ड अलग राज्य एक खेत के रूप में मिला है लेकिन खेेती करने का निर्णय आज भी झारखण्ड के बाहर के लोगों के हांथ में है। हमें अपने खेत में खुद खेती करनी होगी। कांके में बलिदान दिवस के अवसर पर डा. देवशरण भगत ने कहा कि आज से ठीक 32 वर्ष पूर्व हमारे क्रांतिवीरों ने झारखण्ड राज्य के निर्माण के संघर्ष को मुकाम तक पहुंचाने के लिये आजसू पार्टी का गठन किया था।

विधायक विकास कुमार मुण्डा, डा. संजय बसु मल्लिक, राजेंद्र मेहता, हसन अंसारी, वायलेट कच्छप, जयंत घोष, प्रो. विनय भरत, आरपी रंजन, विमल कच्छप, जयपाल सिंह, सुनिल सिंह, राजेंद्र शाही मुण्डा, ललित ओझा, नईम अंसारी, बनमाली मंडल, आशुतोष गोस्वामी, संजय सिद्धार्थ रांची जिला में, कैबिनेट मंत्री चंद्र प्रकाश चौधरी, रौशनलाल चौधरी, तिवारी महतो, इंतेखाब आलम, निरंजन मुण्डा रामगढ़ जिला में, डा. देवशरण भगत, गोपी नाथ सिंह, अशोक उरांव गुमला जिला में, प्रो. विनोद भगत, लाल गुड्डू नाथ शाहदेव, सूरज अग्रवाल, कवंलजीत सिंह लोहरदगा जिला में, पूर्व मंत्री उमाकांत रजक, साधु शरण गोप, अश्विनी महतो, अजय सिंह, टिकैत महतो, मानिक चंद्र महतो, सचिन महतो, अलाउद्दीन अंसारी, संतोष महतो, कमलेश महतो बोकारो में, विधायक राम चंद्र सहिस, इम्तियाज नजमी पलामू जिला में, केदार महतो साहेबगंज जिला में, अशोक गहलौत चतरा जिला में, सत्यनरायण महतो, प्रवीण महतो, सुधीर महतो, अनिल महतो, रविशंकर कुमार सराकेला में विभिन्न प्रखण्डों के कार्यक्रम में भाग लिए।