किसानों को हथकड़ी पहनाने का मामला : राज्य मानवाधिकार आयोग ने पुलिस से रिपोर्ट मांगी


हैदराबाद: तेलंगाना में राज्य मानवाधिकार आयोग (एसएचआरसी) ने तोडफ़ोड़ के आरोपी 10 किसानों को कथित तौर पर हथकड़ी पहना कर पुलिस द्वारा एक अदालत ले जाने की घटना पर खम्मम पुलिस को एक रिपोर्ट पेश करने का आज निर्देश दिया। खम्मम कृषि बाजार यार्ड कार्यालय में 28 अप्रैल को कथित तौर पर तोडफ़ोड़ करने को लेकर गिरफ्तार किए गए 10 मिर्ची की खेती करने वाले किसानों को पास के खम्मम शहर की अदालत में हथकड़ी पहना कर कल पेश किया गया था। अधिवक्ता टी रजनीकांत रेड्डी ने आज राज्य मानवाधिकार आयोग में एक याचिका दायर कर घटना की गहन जांच की मांग की।

रेड्डी की याचिका के आधार पर आयोग ने खम्मम जिला पुलिस अधीक्षक को पांच जून तक एक रिपोर्ट दाखिल करने को कहा। रेड्डी ने कहा कि पुलिस द्वारा मिर्ची किसानों को हथकड़ी पहनाना और उन्हें अदालत के समक्ष पेश करने से उनके मूल अधिकारों का उल्लंघन हुआ है। रेड्डी ने कहा कि हथकड़ी पहनाना नियमों और उच्चतम न्यायालय के दिशानिर्देशों का उल्लंघन है। इस घटना के तूल पकडऩे पर पुलिस विभाग ने दो सशस्त्र रिजर्व पुलिस उप निरीक्षकों को निलंबित कर दिया और जांच का आदेश दिया। गौरतलब है कि तेलंगाना में किसान मिर्ची के लिए बेहतर कीमत की मांग कर रहे हैं क्योंकि पिछले साल के 12000 रूपये प्रति क्विंटल की तुलना में इस साल कीमतें गिर कर करीब 6,000 रूपये प्रति क्विंटल हो गई हैं।

(भाषा)