भाजपा की जीत का ‘पहला प्रमुख संकेत’ : अमित शाह 


amit shah

मुख्यमंत्री सिद्धारमैया द्वारा 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए अपनी सीट बदलने की मीडिया की अटकलों के बीच भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि भगवा पार्टी के चुनाव जीतने की दिशा में यह ‘पहला प्रमुख संकेत’ है। शाह ने सिद्धारमैया का नाम लिए बिना कहा , “जो डींगें हांक रहे थे , अब अपना निर्वाचन क्षेत्र बदलने को मजबूर है।”

शाह ने कहा , “चुनाव प्रचार के पहले चरण में यह पहला प्रमुख संकेत है। हम चुनाव जीतेंगे और (भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष) बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में सरकार बनाएंगे।” वह उन रिपोर्टों का हवाला दे रहे थे जिनमें यह अटकलें हैं कि मुख्यमंत्री मैसूरू की चामुंडेश्वरी सीट से चुनाव लड़ने की अपनी योजनाओं के उलट उत्तर कर्नाटक में बागलकोट की बदामी सीट से चुनाव लड़ सकते हैं।

 इस तरह की अकटलें हैं कि सिद्धारमैया दूसरी सीट की तलाश इसलिए कर रहे हैं क्योंकि इस तरह की रिपोर्टें हैं कि चामुंडेश्वरी में चुनावी रण उनके लिए आसान नहीं होगा। सिद्धारमैया मैसूरू की वरूणा सीट से विधायक हैं। 2008 में हुए परिसीमन के बाद यह सीट अस्तित्व में आई थी। उन्होंने फिर से चामुंडेश्वरी से चुनाव की मंशा जताई थी जिसने उन्हें ‘राजनीतिक जन्म’ दिया था।

 वर्ष 1983 में सिद्धारमैया लोकदल के टिकट पर चामुंडेश्वरी विधानसभा क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए थे। वह पांच बार जीते और दो बार उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा। अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने वाली कित्तूर रानी चेन्नाम्मा को उनके स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद शाह संवाददाताओं से बात कर रहे थे।

उन्होंने आरोप लगाया कि गरीबों , दलितों , आदिवासियों और किसानों के लिए कुछ नहीं करने की वजह से उनमें कर्नाटक की कांग्रेस सरकार के खिलाफ गुस्सा है। शाह ने लोगों से कहा कि केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्य में येदियुरप्पा के नेतृत्व में कर्नाटक में तेजी से विकास होगा।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक करें।