दिव्यांग बच्चों में प्रतिभा की कमी नहीं


रांची : राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि दिव्यांग बच्चों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। ये बच्चे अपने आप में ईश्वरीय गुण धारण किये हुए हैं। भरपूर जीजिविषा से लबरेज ये बच्चे जीवन में आगे बढऩे के लिए आतुर हैं। इन बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए हर संभव प्रोत्साहन व मदद देने की जरूरत है। राज्यपाल हजारीबाग दौरे के क्रम में शारीरिक व मानसिक रूप से दिव्यांग स्कूली बच्चों को सम्बोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि दिव्यांग बच्चों में नैसर्गिंक प्रतिभा भरी पड़ी है। इन बच्चों में छठी ईन्द्रिया काफी जागरूक होती है।

इनकी मदद से बच्चे बेहद प्रतिभाशाली होते हैं। उन्होंने कहा कि दिव्यांग बच्चों को प्रोत्साहन व उनकी मदद के संबंध में सरकार के समक्ष बातें रखेगीं। उन्होंने कहा कि दिव्यांग बच्चे समाज और देश के लिए बोझ नहीं है, जरूरत है ऐसे बच्चों को उचित मार्गदर्शन व सहयोग करने की। इन बच्चों को पर्याप्त अवसर मिल जाये तो ये प्रतिभाशाली बच्चे समाज के लिए एक नजीर बन सकते हैं।

कस्तूरबा आवासीय बालिका विद्यालय चुरचू में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल ने कहा कि बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने बच्चों से कहा कि खुब पढ़ो लिखो और स्वावलंबी बनकर माता पिता, समाज, देश का नाम रौशन करो। उन्होंने कहा कि कराटे का प्रशिक्षण प्राप्त कर यहां की बच्चियां देश विदेश में नाम रौशन कर चुकी हैं उन्होंने बच्चिों से आत्म सुरक्षा के लिए कराटे का प्रशिक्षण लेने की बात कही।

उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण से न सिर्फ बच्चियां सबल बनेंगी बल्कि उनका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। इससे पूर्व सड़क मार्ग से हजारीबाग पहुंची राज्यपाल को सर्किट हाऊस में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इस मौके पर आयुक्त उत्तरी छोटानागपुर प्रमण्डल वंदना दादेल, हजारीबाग के उपायुक्त रवि शंकर शुक्ला, पुलिस अधीक्षक अनुप बिरथरे, सहित जिले के सभी वरीय पदाधिकारी पुलिस पदाधिकारी मौजूद थे।