तिरूवनंतपुरम: राष्ट्रपति ने केरल समुद्री बोर्ड विधेयक, 2014 को लौटा दिया है। विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन ने आज राज्य विधानसभा को सूचित किया। श्रीरामकृष्णन ने प्रदेश के राज्यपाल पी सदाशिवम का संदेश पढ़ा, जिसमें कहा गया है कि विधेयक को संविधान के अनुच्छेद 201 के प्रावधान के अनुरूप विधानसभा को इस संदेश के साथ लौटा दिया गया है कि विधेयक को वापस लिया जाए। हालांकि, विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीतला ने राष्ट्रपति और राज्यपाल के संदेशों में अंतर को रेखांकित करने का प्रयास किया।

चेन्नीतला ने कहा कि राष्ट्रपति ने विधेयक को ‘पुनर्विचार’ करने के संदेश के साथ लौटाया, जबकि राज्यपाल ने ‘वापस लेने’ के संदेश के साथ लौटाया। हालांकि, श्रीरामकृष्णन ने चेन्नीतला के व्यवस्था के प्रश्न (प्वाइंट ऑफ ऑर्डर) को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि राज्यपाल के संदेश पर चर्चा या बहस की कोई मिसाल नहीं है। विधेयक पूर्ववर्ती यूडीएफ सरकार ने 2014 में पारित किया था। इसका लक्ष्य छोटे बंदरगाहों के लिए बोर्ड का गठन करना है।

-भाषा