शाह ने लगाया तृणमूल कांग्रेस पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा का आरोप


भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज पश्चिम बंगाल की सथारूढ़ तृणमूल कांग्रेस सरकार पर राज्य में भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा का आरोप लगाया और उन्होंने मानवाधिकार संगठनों से इसके खिलाफ आवाज उठाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि कोई भी हिंसा बंगाल में भाजपा की बढ़त को नहीं रोक सकेगी।

राज्य के तीन दिवसीय यात्रा पर आये शाह ने संवाददाताओं से कहा, आज मैं पिछले छह महीनों में बंगाल में राजनीतिक हिंसा के पीड़ितों के परिवार के सदस्यों से मिला। यह सब इसलिए हुआ क्योंकि उन्होंने सथारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की विचारधारा का समर्थन नहीं किया। उन्होंने कहा, मैं यहां के लोगों से पूछना चाहता हूं कि क्या यह रबींद्रनाथ टैगोर का बंगाल है? क्या यह स्वामी विवेकानंद का बंगाल है? किसी भी व्यक्ति को तृणमूल कांग्रेस के अलावा किसी भी राजनीतिक दल का हिस्सा होने की आजादी नहीं है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इस तरह की हिंसा शायद कहीं नहीं देखी गई है। उन्होंने राज्य में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि कई लोग मारे गये हैं, कई घायल हुए हैं और उनकी संपथि को नष्ट कर दिया गया। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि ऐसी परिस्थितियों में बंगाल में विकास नहीं हो सकता।

उन्होंने मानवाधिकार संगठनों से राज्य में भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजनीतिक हिंसा की रिपोर्ट करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि मानवाधिकार संगठनों के सदस्यों को राज्य में बसीरहाट, बीरभूम और अन्य स्थानों पर जाना चाहिए और राजनीतिक हिंसा के पीड़ितों से बात करनी चाहिए।