सुशासन और विकास ही सरकार का उद्देश्य


रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने होटल रेडिसन ब्लू में आयोजित राज्य 20 सूत्री कार्यान्वयन समिति की दूसरी बैठक में घोषणा की कि पिछले दिनों विभिन्न कारणों से आत्महत्या करने वाले चार किसानों के परिजनों को 2-2 लाख रूपये मुख्यमंत्री विवेकानुदान से आर्थिक सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि 20 सूत्री की राज्य स्तरीय समिति कमिटमेंट की कमिटि (प्रतिबद्धता की समिति) होगी। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार का उद्देश्य है सुशासन, विकास और जिम्मेवार शासन।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के शासन सूत्र मिनिमम गर्वेंनमेंट मैक्सिमम गवर्नेंस के आधार सबका साथ सबका विकास को ध्याान मे रखते हुये 20 सूत्री कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति के माध्यम से विकास को नया आयाम दिया जा रहा है। उनहोंने कहा कि प्रमंडल,जिला एवं प्रखण्ड स्तर पर अनुश्रवण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 20 सूत्री समिति को अहम महत्व देते हुए सबके सुझाव और फीडबैक से समाज और राज्य को बेहतर बनाने का कार्य हो रहा है।

राज्य के गरीब से गरीब व्यक्ति तक योजना का लाभ पहुंचे, हर गांव में शिक्षा, स्वास्थ्य और विद्युत की व्यवस्था हो। आज राज्य में राजनीतिक स्थिरता है तो राज्य का विकास बिना किसी बाधा के पूरा हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की सवा तीन करोड़ जनता की खुशहाली के लिए वे पूरी तरह प्रतिबद्ध है। सकारात्मक सुझावों का सदैव स्वागत है और इसके लिए उनके द्वार चौबीसों घंटे खुले हुए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि शासन और प्रशासन राज्य जिला और प्रखंड स्तर पर पूरी तरह जवाबदेह होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि व्यवस्था में कमियों का होना आश्चर्य नहीं किन्तु उसके सुधार के लिए सरकार सतत प्रयत्नशील है। सरकार की मंशा या नीयत तथा कार्य करने की दिशा स्पष्ट है। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर 20 सूत्री की बैठकों के बाद सदस्य योजना स्थल का भी निरीक्षण करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि गुणवत्ता से कोई भी समझौता नहीं किया जा सकता है। उन्होंने बैठक में श्रम विभाग को निर्देश दिया कि एक टास्क फोर्स का गठन कर पूरे राज्य में औचक निरीक्षण कर मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी मिल रहा है अथवा नहीं इसकी जांच करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 नियुक्ति वर्ष है।

50 हजार से अधिक नियुक्तियां की गई है। साथ ही युवाओं को कौशल विकास योजना से जोड़ते हुए रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने साफ-साफ कहा कि निजी स्वार्थ के लिए समाज को गुमराह करने वाले लोग नपेंगे। प्रदेश की शांति और भाईचारा की भावना को कोई छिन्न-भिन्न करने की कोशिश करे तो सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि चाहे वह कोई भी हो कितना भी बड़ा आदमी हो बेनकाब होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे राज्य में गो-हत्या प्रतिबंधित है, यदि ऐसा होता है या पशु की तस्करी होती है तो थानेदार बर्खास्त होंगे और एसपी के विरूद्ध गोपनीय प्रविष्टि की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून कोई अपने हाथ में न लें। किसी को भी दण्ड देने की स्थापित प्रक्रिया है। जो हाथ में खुद न्याय करने के नाम पर हत्या करे या हत्या करवादें उनके विरूद्ध शासन कठोर कार्रवाई करेगी। मुख्यमंत्री ने योजना और विकास विभाग की पूरी टीम को 20 सूत्री कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति की सुव्यवस्थित बैठक और प्रतिवेदन के लिए बधाई दी।