मरने से पहले दुजाना खोली पाकिस्तान की पोल


जम्मू-कश्मीर: जब जम्मू कश्मीर में लश्कर का कमांडर अबु दुजाना मारा गया तब जम्मू कश्मीर ने पाकिस्तान से कहा कि वो दुजाना का शव ले जाए, क्योंकि वो पाकिस्तान का रहने वाला था. लेकिन अब उसी दुजाना की जो आखिरी बातचीत सामने आई है उससे पाकिस्तान की पोल खुल गई है।

Source

अबु दुजाना ने सेना के मेजर से की थी बात

अबु दुजाना और सेना के मेजर की बात का ऑडियो टेप सामने आया है। मारे जाने से पहले सेना के मेजर से मोबाइल पर दुजाना की बात हुई थी। जिसमें दुजाना ने माना है कि कश्मीर में बिगड़े हालात के लिए पाकिस्तान जिम्मेदार है। इस टेप में मेजर दुजाना से बार बार कह रहे हैं कि वह सरेंडर कर दे।

Source

टेप में क्या बातचीत हो रही है?

अबु दुजाना– क्या हाल हैं?

मेजर– हमारे हाल तो छोड़ तू सरेंडर क्यों नहीं कर रहा है? तेरे को पता है ना अब क्या है, सब खराब है. ये गेम है सब

दुजाना– मैं क्या करुं, जो गेम (पाकिस्तान) खेल रहे हैं, मुझे अपना रास्ता लेना है।

मेजर– तू अपनी सोच यार तेरे मां बाप हैं बाहर यार।

दुजाना– मां-बाप तो उसी दिन मर गए जिस दिन मैं उनको छोड़कर आया था।

मेजर– अरे यार उनके लिए तू थोड़ी ना मरा है. तू बाहर आ मैं करवाऊंगा। हमारे मन में कोई बहुत दुश्मनी नहीं है. तू कर सरेंडर

दुजाना– जो मेरी किस्मत में लिखा होगा अल्लाह वही करेगा, ठीक है।

मेजर– देख अल्लाह तो साथ देगा ही देगा, वो थोड़ी ना बुरा चाहता है किसी का भी।

भारतीय सेना के अधिकारी ने दुजाना से यह भी कहा कि वह अपने माता-पिता के बारे में सोचे लेकिन उसके ऊपर इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ा। उसने कहा, ‘मां-बाप तो उस दिन मर गए जिस दिन मैं उनको छोड़कर आया।’ भारतीय सेना के अधिकारियों ने यह भी कहा कि वह पाकिस्तान से घुसपैठ कर आए आतंकियों को जान से नहीं मारना चाहते। उन्होंने दुजाना यह भी कहा कि अल्लाह नहीं चाहता कि किसी को कोई नुकसान पहुंचे।

Source

सेना अधिकारियों ने दुजाना से कहा, ‘अल्लाह सबके लिए एक जैसा है।’ हालांकि इसके जवाब में उसने सेना अधिकारी से कहा, ‘अगर अल्लाह मेरे और तुम्हारे लिए एक जैसा है तो आओ, घर के भीतर मुझसे मुलाकात करो।’ उसने यह भी कहा कि उसे पूरा ‘खेल’ समझ में आ रहा है कि उसे पाकिस्तानी एजेंसियों ने मोहरा बनाया है।

सेना, सीआरपीएफ और जम्मू कश्मीर पुलिस ने एक साझा ऑपरेशन में लश्कर के कमांडर अबु दुजाना को उसी के बिल में घुसकर मौत के घाट उतार दिया था। अबु दुजाना A++ कैटेगरी यानी बेहद खतरनाक और मोस्ट वांटेड आतंकवादियों की श्रेणी में था।

Source

17 साल की उम्र में लश्कर में शामिल हो गया था दुजाना

करीब 7 सालों से कश्मीर में सक्रिय अबु दुजाना पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर के गिलगिट का रहने वाला था। 27 साल का दुजाना 17 साल की उम्र में लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हो गया था। साल 2013 में लशकर कमांडर अबू कासिम के मारे जाने के बाद दुजाना ने कश्मीर में लश्कर की कमान संभाली थी। दुजाना ज्यादा खतरनाक इसलिए हो गया था, क्योंकि वो दूसरे आतंकी संगठनों के साथ मिलकर कश्मीर में आतंक का नेटवर्क बना रहा था।