हथियारबंद लुटेरों ने लूटी डॉक्टर की कार, डॉक्टर की हालत गंभीर


डा. राजिंद्र शर्मा पर हुए धरना प्रदर्शन करते हुए डाक्टर, इनसेट में राजिंद्र शर्मा का फाइल फोटो।

लुधियाना-मोगा : मोगा के सिविल अस्पताल में अपने सेवाएं निभा रहें मैडीकल स्पैशलस्टि विख्यात डॉक्टर राजिंद्र शर्मा पर बीती देर शाम हथियारबंद लुटेरों ने हमला कर दिया। हमले के पश्चात उनकी नई कार कैरेटा हुंडई छीनकर फरार हो गए। इस हमले में डाक्टर की हालत गंभीर बताई जा रही है और उन्हें देर शाम लुधियाना के दयानंद अस्पताल स्थित आईसीयू में दाखिल करवा दिया गया है। उधर पुलिस ने कार्यवाही करते हुए शहर की नाकेबंदी कर दी है। आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों में आरोपियों की फिल्म निकालकर पहचानने का प्रयास किया जा रहा है।

Source

जानकारी के मुताबिक मोगा के गांव लंडे के नजदीक अज्ञात व्यक्तियों द्वारा डॉ राजिंद्र शर्मा पर हमला कर दिया था। यह घटना उस वक्त घटित हुई जब डॉ राजिंद्र शर्मा लाजपत राय स्कूल में बने स्वीमिंग पूल पर नहाने के लिए जा रहे थे, जब वह स्कूल के मुख्य द्वार के नजदीक दाखिल हुए तो अचानक अज्ञात व्यक्तियों ने उनपर जानलेवा हमला कर दिया।

इस हमले में वह काफी जख्मी हो गए और लुटेरों ने उनकी गाड़ी को छीनकर फरार होने में कामयाब रहें। जिक्रयोग है कि स्कूल के गेट पर हर वक्त चौकीदार मौजूद रहते है परंतु छुटिटयां होने के कारण वह मौजूद नही थे और सीसीटीवी कैमरे भी बंद निकले।

आम लोगों ने इस घटना पर शंका का अंदेशा जताते हुए कहा कि डॉक्टर शर्मा जो अन्य वीआईपी लोगों के साथ स्वीमिंग पूल पर अकसर जाते थे और लुटेरों ने पूरे अनुमान के साथ रेकी करके इस घटना को अंजाम दिया। यहां उल्लेखनीय है लंडे के गांव में इस इलाके में पिछले कुछ वक्त तक दौरान लूटमार की कई घटनाएं हो चुकी है। डॉ शर्मा के सिर और शरीर के अन्य हिस्सों में गंभीर चोंटे आई है।

Source

उधर डीएमसी अस्पताल के डॉ इंद्रवीर सिंह के मुताबिक डॉ शर्मा के सिर पर खून जमने के कारण सिर का आप्रेशन करने के आदेश दिए है। डॉ राजिंद्र शर्मा के ऊपर हमले के उपरांत इलाके में दहशत का माहौल है। इस हमले के खिलाफ पुलिस द्वारा कठोर कार्यवाही और इंसाफ लेने की खातिर डॉ शर्मा के समर्थन में सरकारी अस्पताल के समूह डाक्टरों, पैरामैडीकल स्टाफ और कार्यालय कर्मचारियों द्वारा रोष धरना दिया जा रहा है। पीसीएमएस के आहवाहन पर समूह जत्थेबंदियों ने सांझा मोर्चा बनाकर पंजाब में हिंसात्मक वातावरण के खिलाफ संघर्ष आरंभ किया है। इस संबंध में उच्च पुलिस अधिकारियों और डाक्टर द्वारा ज्ञापन भी दिया गया है।

– सुनीलराय कामरेड