गुनाहगार युवक ने भीड़ के आक्रोश से बचने के लिए स्वयं को किया पुलिस के हवाले


लुधियाना  : पंजाब की आर्थिक राजधानी लुधियाना की तरफ से चंडीगढ़ को जाती रोड़ पर मुंडिया इलाके में खालसा गुरूद्वारा साहिब में एक शख्स ने श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी के पन्नों को उखाड़ते हुए फाड़ दिया। इसके बाद आरोपी स्वयं ही इलाके के पुलिस थाने में जाकर खाकी वर्दीधारियों के सामने अपना गुनाह कबूल कर लिया। पुलिस जानकारी के मुताबिक आरोपी सुखबीर सिंह ने थाने में आकर स्वयं ही कबूल किया कि उसने गुरू साहिब जी की बेअदबी की है और अब मुझे संखीचो के पीछे डाल दो। पुलिस ने भी समय की नजाकत और संगीन जुर्म को ध्यान में रखते हुए समस्त घटनाक्रम की जानकारी उच्च अधिकारियों को दी तो कुछ ही वक्त में थाना जमालपुर पुलिस छावनी में तबदील हो गया।

उधर श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी की सूचना पाकर गुरूद्वारा प्रबंधक के पदाधिकारी और इलाके के नौजवानों को जब इस समस्त घटनाक्रम की जानकारी हासिल हुई तो आक्रोश में आकर संगत ने लुधियाना-चंडीगढ़ मुख्य राजमार्ग पर जाम लगा दिया। प्रदर्शन के दौरान संगत ने पुलिस अधिकारियों के सम्मुख मांग रखी कि गुनाहगार शख्स को जनता के हवाले कर दिया जाएं। जनता स्वयं ही उसे उसकी करनी की सजा देंगी। रोष प्रदर्शन की सूचना पाकर आसपास के दर्जनों थानों के पुलिस मुलाजिम मौके पर पहुंच गए। इसके बाद उच्च अधिकारियों द्वारा भीड़ को शांत करने की प्रतिक्रिया शुरू हुई।

थाना जमालपुर के इंस्पेक्टर अवतार सिंह के मुताबिक आरोपी सुखबीर सिंह की पहचान के तौर पर उसकी गिरफतारी हुई है। वह सीसीटीवी कैमरे में भी मिली फोटोज के प्रमाण पर हिरासत में लिया गया है। यह भी पता चला है कि आरोपी मुंडियाकलां में स्थित एक लंबे समय से वही सेवा करता आ रहा है और इलाके के ही एक कारखाने में वह नौकरी करता है। मंगलवार की शाम गुरूद्वारे के ग्रंथी कुलवंत सिंह के मुताबिक आरोपी ने स्वयं ही ताला खोला और अंदर चला गया। ग्रंथी के मुताबिक जब वह अंदर गया तो श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी के कुछ अंग अस्त-व्यस्त पड़े थे तो ध्यान से देखने पर मालूम हुआ कि कुछ अंग फटे हुए है। यह समस्त घटनाक्रम सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुआ है। फिलहाल पुलिस ने आरोपी पर मामला दर्ज करके हिरासत में लिया है।

देर रात लोगों के गुस्से को शांत करने की खातिर चुनिंदा सदस्यों को कानून हाथ में ना लेने की हिदायतों उपरांत हवालात में बंद आरोपी दिखाया गया। यह भी पता चला है कि वहां भी संगत के प्रतिनिधि स्वयं ही सजा देने की जिद करने लगे। पुलिस के मुताबिक आरोपी मानसिक रूप से परेशान था। फिलहाल उसके परिवार के बारे में पता लगाया जा रहा है।

– सुनीलराय कामरेड