पादरी हत्याकांड के पीछे भगवा शक्तियों का हाथ : खेहरा


लुधियाना  : आम आदमी पार्टी के 24 घंटे पहले पंजाब विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी उठाने वाले सुखपाल खेहरा ने लुधियाना में दौरा करके अपने तेज-तर्रार सियासी मनसूबे जाहिर कर दिए है कि अब कांग्रेस के लिए चुनौतियों का दौर शुरू होने वाला है। लुधियाना में पादरी हत्याकांड को लेकर सियासत गर्माती जा रही है। आज आम आदमी पार्टी व लोक इंसाफ पार्टी के विधायक व नेता मृतक पादरी सुलतान मसीह के परिवार से मिलने पहुंचे तथा परिवार के सदस्यों के साथ गहरी संवेदना व्यक्त की।

इसके बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए आम आदमी पार्टी के विधायक दल के नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने सीधे रूप से आरोप लगाया कि इस हत्याकांड के पीछे कहीं न कहीं देश को बांटने में सक्रिय भगवा शक्तियों का हाथ है। जिस प्रकार से देश व पंजाब में क्रिश्चियन व अल्पसंखयकों पर हमले हो रहे है तथा पिछले समय में उडीसा के एक क्रिश्चियन को परिवार के साथ जिंदा जलाया गया था व इसमें भाजपा के नेताओं पर केस चल रहा है, ऐसा लगता है कि कहीं न कहीं यह शक्तियां यहां भी सक्रिय है तथा पंजाब पुलिस को इस एंगल को दरकिनार नहीं करना चाहिए। उन्होंने इस हत्याकांड के पीछे डीजीपी पंजाब द्वारा पाकिस्तान का हाथ बताने पर भी उनका आडे हाथ लिया तथा कहा कि जब भी पुलिस को कोई केस हल नहीं होता है तो पाकिस्तान का नाम ले लिय जाता है।

सुखपाल खैहरा ने कहा कि आज पंजाब में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। मुखयमंत्री केवल एक दिन ही पंजाब आए है तथा सीएम के साथ गृह का चार्ज होने के बावजूद उन्हें पंजाब में कोई दिलचस्पी नहीं है तथा पंजाब में पूर्व दस साल वाली की तस्वीर दिख रही है। पंजाब पुलिस का पूर्व की भांति सियासीकरण है तथा कांग्रेस एमएलस गलत काम करवाने के लिए अपनी मर्जी के डीएसपी-एसएचओ नियुक्त करवा रहे है। कैप्टन को गृह विभाग किसी अन्य को स्वतंत्र रूप से सौंप दिया जाना चाहिए। क्योंकि मौजूदा समय में यह सरकार फार दी बाबू, आफ दी बाबू एंड बाय दी बाबू वाली बनकर रह गई है।

खैहरा ने लोक इंसाफ पार्टी द्वारा राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए के पक्ष में मतदान करने बारे पूछने पर कहा कि यह राष्ट्रपति का चुनाव था तथा यहां पर एलायंस अपनी सोच के मुताबिक वोट कर सकते है लेकिन स्टेट में यह मुद्दों पर एकजुट होते है। इसमें कोई गलत बात नहीं है। उन्होंने विधानसभा में बायकाट के मुद्दे पर कहा कि सैशन में स्पीकर का रवैया बिल्कुल भेदभाव भरा रहा है तथा हमें इसलिए बोलने नहीं दिया गया क्योंकि हमारे विधायकों ने सीएम के इंप्रवूमेंट ट्रस्ट व राणा गुरजीत के रेत घौटाले को उठाना था। हमारी पार्टी पाजिटिव एजेंडे पर हर समय बहस के लिए तैयार है। उन्होंने अमरेंद्र सिंह सरकार को किसान आत्महत्या पर घेरेते हुए कहा कि पौने चार महीने में सौ से अधिक किसान आत्महत्या कर चुके है तथा सरकार की लोन माफी की पालिसी पूरी तरह से फेल साबित हुई है। उन्होंने कैबिनेट मंत्री साधू सिंह धर्मसोत द्वारा आत्महत्या करने वाले किसानों को पापी कहने की निंदा करते हुए इसे बेहद असंवेनशील व निर्दयी सोच वाली बयान बताया।

खैहरा ने लंगर पर जीएसटी के मुद्दे पर कहा कि अमरेंद्र व मनप्रीत बादल को वित्त मंत्री जेतली से मिलने की बजाये पहले लंगर सहित सभी धार्मिक स्थल पर लगते टैक्स का भार सरकार को स्वयं वहन करने का ऐलान करना चाहिए। साथ ही हरसिमरत कौर पर निधाना साधते हुए कहा कि हरसिमरत केंद्र में मंत्री होने के बावजूद शिअद व एसजीपीसी के जरिये क्यों मुद्दे को उठाती है जबकि वह खुद वित्तमंत्री अरूण जेतली के साथ वाले कमरे में बैठने के बावजूद सीधे जाकर जेतली से बात क्यों नहीं करके जीएसटी को वापस दिलाती। इस मौके खेहरा ने पंजाब सरकार द्वारा नए टैक्स लगाने की तैयारी पर कहा कि जीएसटी के बाद अब कोई अन्य टैक्स बेतुके है। ऐसा हुआ तो आप इसका डटकर विरोध करेगी।

इस मौके पर लोक इंसाफ पार्टी के संयोजक एवं विधायक सिमरजीत सिंह बैंस ने मीडिया द्वारा उनकी पार्टी के राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए को समर्थन देने के पूछे सवालों का जवाब देते हुए कहा कि यदि वह कांगे्रस को समर्थन देते तो यही मीडिया ने मुझे कहना था कि वह कांग्रेस व अमरेंद्र के साथ जा मिले है। इसी कारण उनकी पार्टी ने एनडीए को वोट किया है।

– सुनीलराय कामरेड