सिख कौम को एक मंच पर लाने के दो महीने बाद पंजाब में कराया जाएंगा महा सिख सम्मेलन


लुधियाना, अमृतसर  : सरबत खालसा की ओर से श्री अकाल तख्त साहिब के नियुक्त कार्यवाहक जत्थेदार भाई ध्यान सिंह मंड ने कहा कि पंजाब के मुख्य म़ंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को चाहिए कि चुनावों से पहले किए वायदे के अनुसार बरगाड़ी कांड के मुख्य कथित आरोपी व पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को तुरंत गिरफ्तार करें। उन्होंने यह भी कहा कि सिख कौम को एक मंच पर इकटठा करने के दो महीने पश्चात पंजाब में महासिख सम्मेलन बुलाया जाएंगा, जिसमें सिख कौम के भविष्य को लेकर रूपरेखा तैयार होंगी।

भाई मंड गुरुद्वारा सुधार लहर के तहत कस्बा अजनाला में स्थित गुरुद्वारा शहीदां में ग्रंथियों, रागियों, ढाडियों और कीर्तन जत्थे के सदस्यों की एक विशाल बैठक के बाद मीडिया के साथ बातचीत कर रहे थे। यह बैठक सरबत खालसा के जत्थेदारों की ओर से दिन प्रतिदिन बढ़ रही बेअदबी की घटनाओं को रोकने के संबंध में आयोजित की गई थी। इस बैठक में सरबत खालसा की ओर से तख्त केसगढ़ साहिब के नियुक्त किए जत्थेदार भाई अमरीक सिंह अजनाला भी मौजूद थे। सिंह साहिबान ने ग्रंथियों और रागियों आदि से उनको आ रही मुश्किलों को सुना और साथ ही उनसे ही इन मुश्किलों के हल के संबंध में भी जानकारी हासिल की।

जत्थेदार मंड ने कहा कि बेअदबी की घटनाएं पूर्व की बादल सरकार की तरह अभी भी लगतार चल रही है। बेअदबी की घटनाओं को अंजाम देने वालों को न तो पहले बादल की सरकार ने गिरफ्तार किया और नहीं कैप्टन सरकार इस मामले को गंभीरता से ले रही है। दोषियों को पकडऩे में मौजूद सरकार भी असफल सिद्ध् हो रही है। जबकि चुनावों से पहले कैप्टन से चुनावों स्टेजों पर एलान किए थे कि वे सरकार बनाते हुए बेअदबी की घटनाओं को अंजाम देनें वालों को जेलों की सिलाखों के अंदर बंद करेंगे। जत्थेदार मंड ने कहा कि आज सरकार की एजेंसियों के साथ साथ पंजाब का आम नागरिक जानता है कि बेअदबी की घटनाओं को अंजाम देने वालों के तार किस तरह पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के साथ जुड़े हुए है। इस लिए कैप्टन अमरिंदर को भी अपने वायदे पर कामय रहते हुए बेअदबी और बरगाड़ी कांड के कथित आरोपी प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ कानून के अनुसार कार्रवाई करते हुए तुरंत गिरफ्तार करना चाहिए।

सिंह साहिब ध्यान सिंह मंड ने यह भी कहा कि सिख पंथ ने कुर्बानियां देकर शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी की स्थापना की थी किंतु लंबे समय से कमेटी और तख्तों पर काबिज जत्थेदारों ने सिख पंथ और कौम के हितों को पहल देने की बजाए समय की सरकारों और निजी स्वार्थो को पहल दी है। सिख कौम को तबाही के किनारे पर ला खड़ा कर दिया है। ऐसे हालात में कौम गहरी चिंता में है। सिख कौम के लिए शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी पूर्ण रूप से मर चुकी है, जिससे कौम को कोई उम्मीद नही। उन्होंने माना कि एसजीपीसी के प्रधान कृपाल सिंह बडूंगर सुधार करना चाहते है किंतु वह बेबस है।

एक सवाल के जवाब में जत्थेदार मंड ने कहा कि रिपेरियन सिंधांत के अनुसार एसवाईएल नहर नहीं बननी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन गुरुद्वारा साहिबों में सीसीटीवी कैमरें नहीं है वहां सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ताकि श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी करने वालों की पहचान करके आरोपियों को पकड़ा जा सके। इस अवसर पर अकाली दल अमृतसन के नेता अमरीक सिंह मान, जरनैल सिंह सखीरा आदि भी मौजूद थे।

– सुनीलराय कामरेड