अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमले के विरोध में पंजाब बंद


लुधियाना-पटियाला-अमृतसर : गत 10 जुलाई को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग स्थित बटेंगू में पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की शह पर चाक-चौबंध सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद अमरनाथ यात्रियों के श्रद्धालुओं पर आतंकी हमले के विरोध में आज पंजाब के अंदर विभिन्न हिंदु संगठनों द्वारा पंजाब बंद का कुछ शहरों में असर व्यापक दिखा जबकि कई इलाकों में कारोबार, दुकानें दिनचर्या की तरह खुली दिखी। लुधियाना, जालंधर, अमृतसर, गुरदासपुर समेत पटियाला में बाजार पूरी तरह बंद थे।

   जबकि मोगा, फिरोजपुर, फरीदकोट और बठिण्डा में अधिकांश दुकानें खुली होने के समाचार है। इसी बीच पंजाब के मुस्लिम बहुसंख्यक इलाके मालेरकोटला में बंद का असर नही था। वहां भी समस्त इलाका रोजमर्रा की तरह होता दिखा। इधर लुधियाना के चौक घंटाघर स्थित और चौड़ा बाजार में स्थिति उस वक्त 12 बजे के उपरांत तनावपूर्ण हो गई जब सैकड़ों लोग पाकिस्तान के विरूद्ध नारे बुलंद करते हुए सड ़कों पर उतर आएं और बाजारों को बंद करवाने लगे। चौड़ा बाजार के साथ हौजरी रैडीमेड की विख्यात अकालगढ़ मार्कीट और पिंक प्लाजा के अधिकांश सिख दुकानदारों और कारोबारियों ने हिंदु संगठनों के बंद के आहवाहन को नजरअंदाज करते हुए अपना कारोबार जारी रखा।

जानकारी के मुताबिक विख्यात चौड़ा बाजार में हिंदु संगठनों के कुछ कार्यकर्ताओं द्वारा जबरदस्ती दुकानें बंद करवाने के मामले को लेकर सिख कारोबारियों के साथ टकराव हो गया, जिससे स्थिति तनावपूर्ण बन गई। सूचना मिलते ही एडीसीपी परमजीत सिंह पन्नू और इलाका प्रभारी धर्मपाल सिंह समेत कई दर्जनों थानों के अधिकारी और पुलिस मुलाजिमों ने स्थिति को आकर संभाला और भीड़ को तितर-बितर करने के इरादे से हलका पुलिसिया बल भी उपयोग किया गया। हिंदु संगठनों के नेता राजीव टंडन, रोहित साहनी समेत दर्जनों अलग-अलग संगठनों के नेताओं को हिरासत में ले लिया गया। सुबह सबसे पहले अखिल भारतीय हिंदु तख्त के पंजाब प्रभारी वरूण मेहता को भी उनके साथियों समेत थाना कोतवाली डिवीजन न. 1 में ले जाकर पुलिस ने बंद कर दिया।

इस अवसर पर पुलिस प्रशासन की ओर से कड़ी चौकसी बरती जा रही थी। महानगर लुधियाना के चप्पे-चप्पे पर पंजाब पुलिस ने मोर्चा संभाले हुए था। इसी दौरान आतंकवादी की कड़ी निंदा करते हुए समस्त हिंदु संगठनों के नेताओं ने केंद्र सरकार से पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग की। उधर जालंधर में भी हिंदु संगठनों द्वारा रोष प्रदर्शन देखने को मिला। आतंकी हमले से गुस्साएं हिंदु संगठनों ने आतंकवाद के पुतले को आग लगाई। पाकिस्तान के साथ लगते भारत के सरहदी जिले गुरदासपुर में भी विभिन्न-धार्मिक और सामाजिक संगठनों ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय ध्वज और आतंकवाद के खिलाफ जमकर रोष प्रदर्शन करते हुए पुतला फूंका।

भारत-पाकिस्तान सरहदी जिले और गुरू की नगरी अमृतसर में भी आज शिवसेना विश्व हिंदू परिषद अन्य हिंदु संगठनों द्वारा दिए गए पंजाब बंद के आहवाहन को भरपूर समर्थन मिला। स्कूलों और बाजार बंद थे। दोपहर 12 बजे के करीब स्थानीय हिंदु संगठनों ने मुख्य बाजार हाल गेट के बाहर रोष प्रदर्शन किया और आतंकवाद समेत पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उधर पटियाला में दुकानें बंद करवाने को लेकर हंगामा भी हुआ। शिव सेना बाल ठाकरे के सदस्यों ने पटियाला शहर के मध्य खुली दुकानों को जबरी बंद करवाया। शहर के चांदनी चौक में बंद करवाने को लेकर काफी देर हंगामा होता रहा और लोगों ने एकदूसरे के विरूद्ध पत्थरबाजी भी की। पुलिस ने मुस्तैदी के चलते पत्थर मारने वाले शख्सों को गिरफतार कर लिया। इस अवसर पर हिंदु संगठनों ने पाकिस्तान का झंडा भी जलाया।

अलग-अलग शहरों, कस्बों और महानगरों में शिवशक्ति का जाप करेंगे-अपनी रक्षा आप करेंगे, के नारों के बीच जहां जम्मू एंड कश्मीर की महबूबा सरकार को जमकर लताड़ा गया वही भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी जमकर शिव भक्तों ने अपने गुस्से का इजहार किया। तपती तपशि के बीच तारकोल की सड़कों पर उतरे शिव भक्तों ने मोदी सरकार को विदेशी यात्राएं छोड़कर भारत की सरहदों की रक्षा करने की अपील की गई। आज इसी सिलसिले में पंजाब के मुख्यमंत्री के गृह शहर पटियाला में कुछ युवक नंगी तलवारें लहराते हुए सड़कों पर उतरे और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाएं। सुबह से ही औद्योगिक नगर लुधियाना में जालंधर बाईपास चौक स्थित विभिन्न हिंदू-सिख-मुस्लिम कार्यकर्ताओं के समूह से बनी लंगर कमेटियों द्वारा कुछ घंटों के लिए यातायात जाम करके गुस्से का इजहार किया गया।

शिवभक्तों ने अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा की मांग और मोदी सरकार को नींद से जागने की मांग रखते हुए अपने गुस्से का इजहार किया। भारी पुलिसिया सुरक्षा बंदोबस्ता के तहत कुछ समय के लिए लंगर कमेटी के सदस्यों ने नैशनल हाईवे को जाम किया, जिससे आने-जाने वाली अनगिनित बसें , निजी वाहन और यात्रियों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। बाबा बर्फानी के दर्शनों को जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए लुधियाना में लंगर लगाने वाली लंगर कमेटियों श्री शिवशक्ति सेवा सोसायटी (रजि.), श्री अमरनाथ सेवा सोसायटी (रजि.), बाबा अमरनाथ लंगर कमेटी (रजि.), श्री अमरनाथ सेवा मंडल एवं लंगर कमेटी (रजि.) के सैंकडों सदस्यों ने आज नेशनल हाइवे नंबर-1 पर एकत्रित होकर जबरदस्त रौष प्रदर्शन किया तथा केंद्र व जेएंडके सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

इस मौके पर संबोधित करते हुए विपन विनायक ,कृष्ण गोपाल,शममी चौहान, नरेंद्र महेंदू्र(गौरव) व नरेश सरीन ने कहा कि बेहद ही शर्म की बात है कि हर वर्ष बोले बाबा के दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं पर जममू-कश्मीर में आतंकियों व अलगावादियों द्वारा हमले किये जा रहे है। कभी रास्ते में तो कभी लंगर स्थलों पर अलगाववादियों द्वारा तोडफोड करके अमरनाथ यात्रियों को डराया-धमकाया जाता है। सोमवार रात को अमरनाथ यात्रियों की बस पर हमला करके श्रद्धालुओं को शहीद किया गया है जोकि ऐसी घटनाएं बर्दाश्त के बाहर हो चुकी है।

उन्होंने भारत के राष्ट्रपति के नाम एक मांग पत्र भेज कर ये भी मांग की है की सरकार श्रद्धालुओं के सुरक्षा पुख्ता इंतजाम करे ,पुरे भारत में यात्रियो के लिए लगे लंगरों की सुरक्षा के इंतजाम करे,हमले में शहीद हुए श्रद्धालुओं को केंद्र सरकार 50-50 लाख और घायलो को 10-10 लाख दे और जम्मू कश्मीर के हलातो को देखते हुए जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है।

– सुनीलराय कामरेड