Social Media पर चरणजीत सिंह के देहांत का झूठा message हुआ वायरल


लुधियाना : श्री गुरू रामदास लंगर घर श्री दरबार साहिब जी अमृतसर स्थित लंगर की खीर तैयार करते गर्म-गर्म चाशनी के कड़ाहे में अचानक गिरने वाले सेवादार लांगरी चरणजीत सिंह की हालत में निरंतर सुधार हो रहा है। सोशल मीडिया पर उनके अकाल चलाने (स्वर्गवास) की खबर बिल्कुल झूठी है।

इस बारे में सोशल मीडिया पर उनकी मौत के बारे में फैलाई जा रही झूठी खबर की निंदा करते हुए शिरोमणि कमेटी के मुख्य सचिव ने कहा कि चरणजीत सिंह वाहेगुरू की कृपा के साथ जीवित है और लोग उनके बारे में झूठी खबरें फैलाने से गुरेज करें। शिरोमणि कमेटी के मुख्य सचिव हरचरण सिंह के मुताबिक चरणजीत सिंह का हादसे के दौरान गर्म कड़ाहे में गिरना अफसोसजनक है और ऐसे हादसे कही भी किसी के साथ घटित हो सकते है।

उन्होंने सोशल मीडिया पर झूठी खबरें फैलाने वालों की खिंचाई करते हुए कहा कि लोगों को ऐसी झूठी खबरें फैलाने की बजाए वाहेगुरू के चरणों में लांगरी सेवादार की लंबी उम्र और जल्द स्वस्थ होने की अरदास करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि शिरोमणि कमेटी के अधिकारी समय-समय पर लांगरी क ी सेहत के बारे में डाक्टरों से सलाह-मशविरा ले रहे है और उसके परिवार के सदस्यों के संपर्क में है।

प्राप्त ताजा जानकारी के मुताबिक पिछले अढ़ाई दशकों से सेवादार की भूमिका निभाने वाले 45 वर्षीय लांगरी चरणजीत सिंह के संबंध में फैली खबर बिल्कुल निराधार है। डाक्टरों के मुताबिक अब सेवादार चरणजीत सिंह पहले से काफी बेहतर है। उल्लेखनीय है कि तीन दिन पहले मीरी-पीरी दिवस के अवसर पर सुबह 9 बजे के करीब श्री दरबार साहिब स्थित गुरू रामदास लंगर हाल में लंगर तैयार करते पैर फिसलने के कारण सेवादार अचानक गर्म कड़ाहे में गिर गया था, जिसमें उबलते पानी के चलते वह काफी जख्मी हो गया।

हालांकि मौके पर मौजूद अन्य सहयोगियों ने उसे बाहर निकालकर इलाज के लिए गुरू रामदास अस्पताल में गंभीर अवस्था के चलते दाखिल करवा दिया था। हरिमंदिर साहिब के अतिरिक्त प्रबंधक सतनाम सिंह के मुताबिक चरणजीत सिंह के शरीर का काफी हिस्सा बुरी तरह झुलस गया था, वही शिरोमणि कमेटी ने उसके इलाज के लिए हर संभव कोशिश जारी है, उधर दरबार साहिब में आने वाली संगत ने भी अपने-अपने स्तर पर वाहेगुरू के आगे चरणजीत सिंह के सही सलामत होने की अरदास की है।

– सुनीलराय कामरेड