पर्वतीय क्षेत्रों से जुडी समस्याओं को केन्द्रीय मदद का आधार


Pranab-Mukherjee

जयपुर :  राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने आज कहा कि राज्यों को केन्द्रीय मदद का फार्मूला राजस्थान के तत्कालीन मुख्यमंत्री भैरोंसिह शेखावत के सुझाव पर बदला गया था और राज्य के आकार को भी इसका एक आधार बनाया गया था।

 श्री शेखावत की पुण्यतिथि पर यहां आयोजित व्याख्यान में श्री मुखर्जी ने कहा कि जब वह योजना आयोग के उपाध्यक्ष थे तब राजस्थान के मुख्यमंत्री के तौर पर श्री शेखावत ने यह मुद्दा उठाया था कि पर्वतीय क्षेत्रों से जुड़ी समस्याओं को केन्द्रीय मदद का आधार माना जाता है लेकिन इसके निर्धारण में रेगिस्तान और दूरियों पर ध्यान नहीं दिया जाता। उन्होंने कहा कि श्री शेखावत के इस सुझाव पर ही केन्द्रीय मदद फार्मूले में राज्य के आकार को भी आधार माना गया।

 राष्ट्रपति ने कहा कि पहली बार यह माना गया कि राज्यों की भौगोलिक परिस्थितियां अलग-अलग होने के कारण लागत भी एक नहीं हो सकती तथा पहाड़ की तरह रेगिस्तान भी एक समस्या है जहां दूर-दराज क्षेत्रों तक पहुंचने में ज्यादा लागत आती है। दूर-दूराज क्षेत्रों में सेवाएं उपलब्ध कराने में केरल और राजस्थान में खर्च एक जैसा नहीं हो सकता क्योंकि दोनों प्रदेशों की भौगोलिक परिस्थितियां एक समान नहीं है।

(वार्ता)

[zombify_post]