लापरवाह कर्मचारी एवं अधिकारीयों पर वसुंधरा की फटकार


जयपुर:  राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि लोगों को परेशान करने वाले एवं लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों एवं अधिकारियों खेर नहीं। राजे आपका जिला आपकी सरकार कार्यक्रम के तीसरे दिन आज करौली में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक मे बोल रही थी।

उन्होंने कहा कि अधिकारियो शासन करने के लिए नहीं लोगों कि सेवा करने के लिये सरकारी सेवा में आये हैं। उन्होंने चेताया कि काम में लापरवाही बरतने वाले एवं जनता को परेशान करने वाले कर्मचारियों-अधिकारियों को कड़ा सबकसिखाया जायेगा। आदर्श विद्यालयों तथा उत्कृष्ट विद्यालयों में आधारभूत ढांचे की कमियों शिक्षा की खराब गुणवत्ता, आंगनबाड़ी योजना, राशन वितरण, पेयजल आपूर्ति में लापरवाही जैसे मामलों पर कहा कि ऐसे प्रकरणों में संबंधित अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

राजे ने कहा कि पानी, बिजली, सड़क, चिकित्सा, शिक्षा और रोजगार जैसी आधारभूत सुविधाओं की मॉनिटरिंग और आमजन से सीधा फीडबैक लेने के लिए कॉल सेंटर व्यवस्था शुरू की जाए। ताकि गलत जानकारी देने वाले अधिकारियों की सच्चाई सामने आ सकेगी। जिले में बिजली आपूर्ति की स्थिति को सुधारने की बात करते हुए बिजली चोरी और छीजत रोकने के लिए सख्त कार्रवाई करने के निर्देश भी दिये।

राजे ने चम्बल-सवाई माधोपुर-नादौती पेयजल परियोजना में देरी पर पर नाराजगी जताते हुए कहा कि 2003 में शुरू हुई इस परियोजना का अभी तक मात्र 35 प्रतिशत कार्य पूरा हुआ है। शेष कार्य को जल्द पूरा किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वच्छ पेजयल के लिए आरओ प्लांट ग्रामीणों की मांग के अनुसार ही लगाने चाहिए ताकि सरकारी अनुदान का सदुपयोग हो सके। उन्होंने पानी चोरी को लेकर जिला पुलिस अधीक्षक, पानी माफिया और जलदाय विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए।

(वार्ता)

[zombify_post]