ऐतिहासिक जीत के लिए जुट जाने का आह्वान


जयपुर/शाहपुरा,(कासं) : धौलपुर विधानसभा उप चुनाव में मिली ऐतिहासिक जीत से उत्साहित भाजपा अब पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गई है। पार्टी ने अगले विधानसभा चुनावों में 180 सीटों के जीतने के लक्ष्य के साथ लोकसभा चुनावों में सभी 25 सीट हासिल करने पर काम शुरू कर दिया है। चुनावी रणनीति तय करने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी की अध्यक्षता में दिल्ली रोड स्थित शाहपुरा के निकट बिशनगढ फोर्ट में 35 से अधिक भाजपा नेता चिंतन के लिए एकत्र हुए। इसमें मुख्यमंत्री ने चुनावी शंखनाद करते हुए भाजपा नेताओं को ऐतिहासिक चुनाव परिणाम की तैयारी में जुट जाने का आह्वïान किया। असल में जोधपुर में भाजपा कार्यसमिति की बैठक में ही विधानसभा चुनावों में 180 तथा 25 सीटों का लक्ष्य निर्धारित कर दिया था। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए क्या प्रयास किए जा सकते है इस पर मंथन किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर बुलाई गई इस बैठक का कोई एजेण्डा तय नहीं किया गया, लेकिन माना जा रहा है कि उन बिन्दुओं को शामिल किया गया है कि कहां भाजपा कमजोर महसूस करती है और कहां मजबूत है। वे कौनसे विधानसभा क्षेत्र है जहां अभी भाजपा को जीतना बाकी है उन स्थानों पर किस तरह से पार्टी को मजबूत किया जाएं। बीजेपी ने विधानसभा चुनाव 2013 में सभी को साथ लेकर इतनी बड़ी जीत दर्ज करवाई थी लिहाजा इस बैठक में उन नेताओं को बुलाया गया है जो अपने क्षेत्रों में क्षत्रप के रूप में है। यहीं नहीं प्रदेश के हर समाज के लोगों में इस चिन्तन बैठक में शामिल किया गया है।

परनामी ने कहा कि अब चुनाव नजदीक है इसलिए सभी लोग तैयारियों में जुट जाएं क्योंकि हमारा लक्ष्य विधानसभा चुनाव में 180 सीटों से अधिक और लोकसभा चुनाव में सभी 25 सीटों पर जीत दर्ज करना है, जो टास्क मुख्यमंत्री ने दिया है उसे पूरा करना है। दो दिवसीय शिविर के पहले दिन बुधवार को तीन सत्रों में मंथन चला। गुरुवार को  सुबह 9 से 1 बजे तक सत्र चलेंगे।

यह रहे उपस्थित
बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री वी. सतीश, प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना, प्रदेश सह प्रभारी गोपाल शेट्टी,  केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल, केन्द्रीय खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री सीआर चौधरी, विधानसभा उपाध्यक्ष राव राजेन्द्र सिंह, पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़, सार्वजनिक निर्माण मंत्री यूनुस खान, उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी, नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी, सहकारिता मंत्री अजय सिंह, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अरुण चतुर्वेदी, खान राज्यमंत्री सुरेन्द्र पाल टीटी, श्रम मंत्री जसवंत यादव, ऊर्जा राज्य मंत्री पुष्पेन्द्र राणावत के अलावा राज्यसभा सदस्य रामनारायण डूडी, रामकुमार वर्मा, सांसद दुष्यंत सिंह, ओम बिड़ला, देवजी पटेल, निहाल चंद मेघवाल सहित दिगम्बर सिंह, मदन लाल सैनी, चुन्नी लाल गरासिया, गोपाल पचेरवाल, जितेन्द्र सिंह जैसलमेर, प्रहलाद पंवार, मानसिंह गुर्जर, लक्ष्मीनारायण दवे, अर्जुन मीणा भी मौजूद थे।