खदान में नहाने गए युवक की डूबने से मौत


पानी से शव को निकालते कांस्टेबल और गांव के लोग व (इनसेट में) मृतक और विलाप करते परिजन।

नीमकाथाना : कुछ दिनों पूर्व पाटनवाटी में लादी का बास में खदान में भरे पानी में डूबने से चार लड़कियों की मौत का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि बुधवार फिर किशोरपुरा स्थित एक माईन्स युवक की डूबने से मौत हो गई।

ग्रामीणों ने बताया कि भोपा की ढाणी निवासी महेन्द्र पुत्र भागीरथ, उसका चाचा  हंसराज पुत्र मनभर और बुआ का लड़का  विक्रम पुत्र कैलाश   निवासी देवता तीनों खदान में भरे पानी में नहाने गए थे। हंसराज और विक्रम तो नहाकर बाहर आ गये लेकिन महेन्द्र पानी में ही डूब गया। सूचना पर पाटन थानाधिकारी महेन्द्र कुमार मीणा मय जाप्ते किशोरपुरा स्थित जयभवानी माईन्स पहुंचे। खदान में 50-60 फुट पानी भरा हुआ है।

पुलिस के दो कांस्टेबल ब्रहमप्रकाष यादव व कुलवीर ने साहस दिखाते हुए खदान में भरे पानी में उतरे और महेन्द्र के शव को तलाश करने लगे। घटना की जानकारी पर उपखण्ड अधिकारी जे.पी गौड़,तहसीलदार सरदार सिंह गिल, नायब तहसीलदार सत्यवीर यादव, सहायक खनिज अभियन्ता अनिल गुप्ता भी मौके पर पहुंचे। लगभग एक घंटे बाद महेन्द्र का शव पानी में से निकाला गया। पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया।

बन्द खदानों के फेन्सिग नहीं करने पर जताई नाराजगी: उपखण्ड अधिकारी जे.पी गौड ने सहायक खनिज अभियन्ता अनिल गुप्ता से खदान के बारे में पूरी जानकारी मांगी और बन्द खदानो के फेन्सिग नहीं किये जाने पर नाराजगी जताते हुए शीघ्र फेन्सिग और नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए। गुप्ता ने बताया कि उपरोक्त खान शीशराम गुर्जर की है और इन खानों पर लगभग तीन करोड़ रुपए की पैनल्टी होने से ये खान विगत तीन साल से बन्द पड़ी है।

– हरीश देवन्दा