शिक्षा का प्राइवेट करना दुर्भाज्ञपूर्ण : शर्मा


जयपुर  : राजस्थान में कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष डॉ. अर्चना शर्मा ने आज सरकार द्वारा देहाती क्षेत्रों के विद्यालयो को PPP मोड़ पर संचालित करने की कवायद शुरू किये जाने का विरोध करते हुये बताया कि यह सरकारी सम्पत्ति व शिक्षा का निजीकरण करने की साजिश की जा रही है।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष डॉ. अर्चना शर्मा ने आज एक बयान में कहा कि प्रदेश की BJP सरकार ने देहाती क्षेत्रों के विद्यालयो को PPP मोड़ पर देने के लिए एक प्रस्ताव तैयार किया है ।

जिसके बताया गया है कि करीब 300 विद्यालयो को Private operators को सुपुर्द किया जाएगा। अर्चना शर्मा ने ये बताया कि शिक्षा व स्वास्थ्य मूलभूत सेवाओं में आता है जिसका संचालन करना सरकार का दायित्व है।  परन्तु सरकार शिक्षा का निजीकरण की तैयारी कर रही है जिससे साफ़  होता है कि कुछ प्राइवेट संस्थाओं को सरकारी सम्पत्ति सुपुर्द कर उनके नीहित स्वार्थ साधने का काम किया जा रहा है।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष डॉ. अर्चना शर्मा ने  बताया कि इस प्रक्रिया से स्टूडेंट्स  का भला होना तो दूर इन  विद्यालयो में कार्यरत टीचर्स को अतिरिक्त मानते हुए सरकार अन्य सरकारी विद्यालयो में लगायेगी जिसका प्रतिकूल असर यह होगा कि युवा, शिक्षित, बेरोजगार जो शिक्षण को आजीविका के रूप में देख रहे हैं उनके हितों पर कुठाराघात होगा।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष डॉ. अर्चना शर्मा ने का ये भी कहना है कि इससे पूर्व भी गवर्नमेंट द्वारा 1 लाख टीचर्स को Stuffing Pattern के नाम पर अतिरिक्त कर दिया गया था जो भविष्य में jobs नहीं देने की सरकार की नीयत को दर्शाता है। डॉ. अर्चना शर्मा ने बताया कि हर हाल में सरकार को शासकीय विद्यालयों के निजीकरण से परहेज करना चाहिए।