पर्चा लीक गैंग के आका को दबोचा


जयपुर,(कासं) : पर्चा लीक गैंग के आका को एटीएस ने शुक्रवार को दिल्ली से दबोच लिया। मेडिकल परीक्षा पेपर लीक प्रकरण में इस गिरफ्तारी को अहम माना जा रहा है। दिल्ली में डेरा डालकर बैठी टीम ने गिरोह के घर और ऑफिसों में छापे मारकर महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए हैं। गैंग के सरगना के पास से मिले दस्तावेजों को प्रकरण के खास साक्ष्य मानकर बरामद किए हैं।

एडीजी एटीएस/एसओजी उमेश मिश्रा ने बताया कि गिरोह का मुखिया उमाशंकर गुप्ता (42) निवासी 19 एस, सैक्टर-8 जसालो विहार अपने गुर्गों की गिरफ्तारी के बाद फरार चल रहा था। एएसपी बजरंग सिंह शेखावत के नेतृत्व में रवाना हुई टीम ने ग्रेटर कैलाश एन्क्लेव स्थित होटल कॉरपोरेट पार्क से भी दस्तावेज सीसीटीवी फुटेज लिए हैं। यहां पर्चा लीक करने वाली गैंग ग्राहकों को मिलने के लिए बुलाती थी। मास्टर माइण्ड उमाशंकर पेपर लीक करने के मामलों में आदतन अपराधी है। वर्ष, 2006 में आयोजित मेडिकल परीक्षा पर्चा लीक मामले में शिमला और वर्ष,2015 में तेलंगाना में नीट मेडिकल परीक्षा पेपर लीक करने के मामले में गिरफ्तार किया जा चुका है।

देशभर में जाल: एटीएस की गिरफ्त में आ चुके पर्चा लीग गैंग के गुर्गे विक्रम एवं विकास सिन्हा ने जयपुर व बिहार में ऑफिस खोल रखा है। आरोपित अशोक गुप्ता इनके  साथ कॉलेज में पढ़ा था जिसके चलते अब इस काले धन्धे में पॉर्टनर बन गया। एटीएस पूर्व में हुए गिरफ्तार आरोपितों को मास्टर माइण्ड के सामने बैठाकर क्रास सवाल करेगी। हालांकि इससे पहले गुप्ता से अकेल में ही पूछताछ की जाएगी।

फर्म का मालिक

उमाशंकर की लाजपत नगर दिल्ली में एजूगाइड्स एवं कंसलटेंस नाम से फर्म है। वह निजी मेडिकल कॉलेजों में मैनेजमेंट सीट पर डोनेशन से प्रवेश दिलाने का झांसा देकर पेपर लीक करने वालों की गैंग चलाता है। सूत्रों की माने तो मास्टर माइण्ड कई परीक्षाओं में मोटी रकम लेकर सांठगांठ के दम पर असली की जगह फर्जी परीक्षार्थी से पर्चा दिलवाता है। आरोपित को अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए रिमाण्ड पर लिया जाएगा।