चिकित्सा संस्थानों में तम्बाकू पर प्रतिबंध


जयपुर : राजस्थान में अब राजकीय चिकित्सा संस्थानों को तम्बाकू मुक्त घोषित कर इनमें किसी भी प्रकार के तम्बाकू सेवन पर पूरी तरह से प्रतिबंधित किया गया है। राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने यह जानकारी देते हुये बताया कि इसके साथ ही इन चिकित्सा केन्द्रों पर तम्बाकू रहित क्षेत्र का विवरण अंकित कराने के निर्देश दिये गये हैं।

उन्होंने बताया कि तम्बाकू विभिन्न बीमारियों का प्रमुख कारण होने के साथ ही विकास के लक्ष्यों को अर्जित करने में बाधक है। प्रदेश में तम्बाकू पदार्थों के उपयोग को हतोत्साहित कर सामान्य एवं युवा नागरिकों को संरक्षित करने व सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू पदार्थों को नियंत्रित करने के लिए वर्ष 2003 में कोटपा एक्ट बनाया गया था। स्वास्थ्य सचिव एवं मिशन निदेशक एनएचएम नवीन जैन ने बताया कि इस संबंध में आदेश जारी कर दिये गये है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध चिकित्सालयों के अधीक्षकों, सभी जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा जिला, उपजिला व सैटेलाईट अस्पतालों के प्रमुख चिकित्सा अधिकारियों को कोटपा के तहत इन आदेशों की अनुपालना करवाने के निर्देश दिये गये हैं। इस कार्य के लिए स्टेट नोडल आफिसर डॉ. एस.एन।

धौलपुरिया को प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि उपस्वास्थ्य केन्द्रों से लेकर समस्त स्वास्थ्य केन्द्रों के प्रवेश द्वारों, बैठक कक्ष, लिफ्ट इत्यादि महत्वपूर्ण स्थलों पर तम्बाकू के उपयोग को प्रतिबंधित करने वाले संकेत चिन्ह अंकित करने के भी निर्देश दिये गये है।

– वार्ता