प्राचीन द्वारकाधीश के दर्शनार्थियों की राह होगी आसान


राजस्थान के सार्वजनिक निर्माण मंत्री यूनुस खान ने राजसमन्द्र कांकरोली स्थित श्री द्वारकाधीश के प्राचीन मंदिर को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या आठ से जोडऩे के प्रस्ताव का अनुमोदन कर प्रस्ताव केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय को प्रेषित करने के निर्देश दिए हैं और इस कार्य पर करीब 30 करोड़ रुपए की लागत आएगी।

श्री खान ने बताया कि प्रदेश के विभिन्न धार्मिक स्थलों तक आवागमन के लिए श्रद्धालुओं को अच्छी सुविधाएं उपलब्ध करवाना राज्य सरकार की प्राथमिकता में है। उन्होंने बताया कि पुष्टिमार्गीय वैष्णव सम्प्रदाय की मुख्य पीठ श्री द्वारिकाधीश का मंदिर 400 वर्ष से अधिक प्राचीन है। यह धार्मिक एवं सांस्कृतिक आस्था तथा राष्ट्रीय महत्व का महत्वपूर्ण केन्द्र है जहां प्रतिदिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु दर्शनार्थी आते हैं।

उन्होंने कहा कि इस मंदिर में जाने का वर्तमान में एकमात्र रास्ता मुखर्जी चौराहे से होकर गुजरता है जो अत्यधिक संकरा है। इसके कारण दर्शनार्थियों को आवागमन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। त्यौहारों के दौरान तो यह रास्ता आने-जाने वाले वाहनों से इस कदर अवरुद्ध रहता है कि आधा किलोमीटर की दूरी तय करने में भी घण्टों लग जाते हैंं। रास्ते पर स्थानीय निवासियों के घर होने और रास्ते की चौड़ाई कम होने से यहां हमेशा यातायात जाम की स्थिति बनी रहती है।

उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय विधायक एवं उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी से इस क्षेत्र के लोगों द्वारा द्वारिकाधीश मंदिर के लिए इस सड़क के विकास की मांग लम्बे समय से की जा रही थी। उनके आग्रह पर और वास्तव में आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए श्री द्वारिकाधीश मंदिर कांकरोली को एनएच आठ से जोड़े जाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इसके अनुसार मंदिर में दर्शनार्थ आने वाले श्रद्धालुओं की यात्रा को सरल एवं सुगम बनाने के लिए एनएच आठ से नौ चौकी झील की पाल, हुसैनी मस्जिद स्लूस रोड, जूना अखाड़ा होते हुए मंदिर तक लगभग पांच किमी तक सड़क की चौड़ाईकरण एवं सु²ढ़ीकरण कार्य किया जाएगा। इस कार्य में मंदिर के पास झील में एलिवेटेड रोड एवं पार्किंग का निर्माण भी किया जाना प्रस्तावित है।