केंद्रीय कानून मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने आज आरोप लगाया कि राहुल गांधी ‘हिन्दू अथवा भगवा आतंकवाद’ को लश्कर ए तैयबा जैसे आतंकवादी संगठन से अधिक खतरनाक मानते हैं।

रवि शंकर प्रसाद का यह बयान ऐसे समय आया है जब एक दिन पहले ही गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस और राहुल पर लश्कर सरगना हाफिज सईद की पाकिस्तानी अदालत की ओर से रिहाई पर ‘ताली बजाने’ का आरोप लगाया था।

रवि शंकर ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘26/11 के मुंबई आतंकी हमले के बाद तत्कालीन अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन भारत आयी थीं। उस समय के प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने उन्हें भोज दिया था। इसमें राहुल भी मौजूद थे। उनकी बगल में अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर बैठे थे और दोनो ने कई विषयों पर बात की थी।

उन्होंने राहुल को पूछा था कि लश्कर ए तैयबा के बारे में उनका क्या कहना है। राहुल ने कहा कि ‘यह तो है पर भारत का हिन्दू आतंकवाद इससे ज्यादा खतरनाक है।’ उन्होंने कहा कि टिमोथी ने यह बात लिख कर अमेरिका ने भेजा था जिसका खुलासा विकिलिक्स प्रकरण के दौरान हुआ।

इसे लंदन के मशहूर अखबार द गार्जियन ने भी छापा था और बाद में भारत के अखबारों में भी यह बात छपी। राहुल गांधी को इस बात का जवाब देना चाहिए उन्होंने ऐसा क्यों कहा था। उन्होंने कहा कि राहुल ने मोदी को सांप्रदायिक ध्रुवीकरण करने वाला व्यक्ति बताया जो एक शर्मनाक बात है।

रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस उपाध्यक्ष के गुजरात में मंदिरों के ताबड़तोड़ दौरों पर भी चुटकी ली। उन्हें जुलाई 2009 में मिस्त्र के शर्म अल शेख में तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनके पाकिस्तानी समकक्ष युसूफ रजा गिलानी के संयुक्त वक्तव्य की भी याद दिलायी जिसमें बलूचिस्तान में भारत के पक्ष को नुकसान पहुंचाने वाली बात का जिक्र था।