राजद विधाक अपने क्षेत्र में विधायक कोटे से बहुजन पुस्तकालय की स्थापना करें:तेजस्वी यादव


पटना : बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के127 वे जयंती के अवसर पर राजद ने पटना के श्रीकृष्ण स्मारक भवन में भव जयंती समारोह का आयोजन किया। महती जनसभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि हमलोग पूरे दिल से और पूरे आदर के साथ बाबा साहब को नमन करते हैं। बाबा साहब सामाजिक न्याय के जनक थे। उनका पूरा जीवन संघर्ष से भरा था।

हमलोग उनके चित्र पर मात्र माल्यार्पण नहीं करते बलिक उनके विचार और आदर्श को सच्चे मन से जीवन में उतरते हैं। श्री यादव ने कहा कि पूरे मन और समर्पण की भावना से उनके विचार का भारत बनाने में लगे हुए हैं। सामाजिक गैर बराबरी, जातीय, धार्मिक भेदभाव को समाप्त कर समता मुल्क समाज के निर्माण में लगे हुए हैं। मनुवाद युग युग से गरीब, दलित, पिछड़ों का दुश्मन रहा है।

मगर दूसरी ओर जिनको अम्बेडकर जी की विचारधारा पसंद नहीं वे दिखावे और वोट की राजनीति के लिये अम्बेडकर जयंती का आयोजन कर रहे हैं। ऐसे ही लोग संविधान को बदलने की कोशिश कर रहे हैं।

संविधान में बदलाव ला कर वे वोट के अधिकार को छीन ना चाह रहे हैं।राजद और महागठबंधन भाजपा के इस साजिश को कभी कामयाब नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि गरीब, दलित, अभिवंचित, दबाये-सताये लोगों के साथ हमारा रिश्ता दर्द, दिल और दल का है। उन्हें कोई भी दबाने सताने की कोशिश करेगा तो हमारा दल सख्ती से उन शक्ति के इरादों को नाकाम करेगा।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि वे चाहते हैं कि सभी जातियों को उनके जनसंख्या के अनुरूप आरक्षण का अधिकार मिले। उनका दल तमिलनाडु के तर्ज पर आरक्छन की सीमा को बढ़ाये जाने का हिमायती है। जिनकी जनसंख्या 85 प्रतिशत है उन्हें 49 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था है।

जिनकी जनसंख्या15 प्रतिशत है उनके लिए 51 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था हो गई है। निजीकरण को प्रोत्साहित कर आरक्षण को समाप्त किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उनके पिता एवं राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने मंडल आयोग की अनुसंशा को लागू कराने के लिये संघर्ष किया और इसे लागू कराया। समाज के शोषित, अभिवंचितों को सामाजिक न्याय और सत्ता में समुचित भागीदारी दिलाई।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ