समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। जिसके बाद से ही मुलायम सिंह और योगी आदित्यनाथ की मुलाकात के अलग-अलग कयास लगाए जा रहे है। मुलायम सिंह यादव, योगी आदित्यनाथ से मिलने उनके पांच कालिदास मार्ग स्थित सरकारी आवास पर पहुंचे। दोनों के बीच लगभग 20 मिनट तक बात हुई।

माना जा रहा है कि मुलायम ने पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में उन्हें व अखिलेश यादव को मिले सरकारी आवास को खाली न करने का आग्रह योगी से किया और इसके लिए अपनी ओर से फार्मूला भी सामने रखा। सूत्रों का कहना है कि मुलायम ने सीएम से बंगला बचाने के लिए कोई रास्ता निकालने को कहा है। बुधवार को मुलायम दोपहर एक बजे मुख्यमंत्री के पांच कालिदास स्थित सरकारी आवास पर पहुंचे।

सूत्रों के अनुसार इस बीच मुलायम सिंह ने यह जानना चाहा कि पूर्व मुख्यमंत्रियों का आवास बचाने के लिए सरकार क्या कर रही है? ध्यान रहे, सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आवंटित विशाल आवास उनसे खाली कराने का आदेश दिया है। मुलायम ने अपने साथ ही बेटे अखिलेश को बतौर पूर्व मुख्यमंत्री आवंटित आवास भी न खाली कराने का योगी से आग्रह किया।

यह सुझाव भी दिया कि यदि सरकार की मजबूरी बन जाए तो चार विक्रमादित्य मार्ग (अखिलेश का आवास) और पांच विक्रमादित्य मार्ग (मुलायम के आवास) को क्रमश: नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी और विधान परिषद में विपक्ष के नेता अहमद हसन को आवंटित किया जा सकता है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर प्रदेश में छह पूर्व मुख्यमंत्रियों मुलायम सिंह यादव, मायावती, अखिलेश यादव, कल्याण सिंह, राजनाथ सिंह और नारायण दत्त तिवारी का सरकारी आवास खाली कराया जाना है। राज्य संपत्ति विभाग इन्हें नोटिस जारी करने की तैयारी कर रहा है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।