वाराणसी में छात्र-छात्रों ने योगी का विरोध किया


वाराणसी : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के दौरे के दौरान उनके खिलाफ कुछ छात्रों ने “गो बैक योगी” के नारे लगाकर आज अपना विरोध व्यक्त किया। भगत सिंह छात्र मोर्चा से जुड़े करीब एक दर्जन छात्रों ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) मुख्य द्वार पर हाथों में तख्तियां लेकर श्री योगी का विरोध किया। पुलिस के तमाम सुरक्षा इंतजामों के बावजूद कुछ छात्र अचानक मुख्य द्वार पर आ गए और जोर-जोर से “गो बैक योगी” के नारे लगाने लगे।

पुलिसकर्मियों ने आंदोलनकारी छात्रों को समझाया लेकिन जब वे नहीं माने तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया। हिरासत के विरोध में छात्रों के समर्थकों ने लंका थाने पर प्रदर्शन कर छात्रों के रिहाई की मांग की। प्रदर्शनकारी छात्रों का आरोप है कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के बनने के बाद राज्य की कानून व्यवस्था और खराब होती जा रही है। सहारनपुर में जातीय हिंसा लगातार फैल रही है, लेकिन सरकार उसे नियंत्रित करने में नाकाम साबित हुई है।

छात्रों का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता दलित एवं अल्पसंख्यकों के बीच फूट पैदा कर उन्हें आपस में लड़ा रहा है। इस वजह से वहां तनाव की स्थिति बनी हुई है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रवींद्रपुरी स्थित संसदीय कार्यालय पर श्री योगी के पहुंचते ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं ने रोजगार देने एवं फीस वृद्धी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

श्री योगी केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रमों के अलावा केंद्र एवं राज्य सरकार की ओर से चल रहे विभिन्न विकास कार्यों का निरीक्षण करने दो दिवसीय दौरे पर कल वाराणसी आये थे। आज वह बीएचयू में आयोजित “स्वच्छ गांगा सम्मेलन” में भाग लेने स्वतंत्रता भवन जा रहे थे, तभी छात्रों ने विरोध किया।

–  (वार्ता)