मानवाधिकार की घटनाओं पर आयोग ने लिया संज्ञान


भोपाल : मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने प्रदेश की विभिन्न घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए सभी मामलों पर जांच प्रतिवेदन तलब किया। आयोग की यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार जबलपुर जिला चिकित्सालय विक्टोरिया में स्मैकियों और शराबियों का अड्डा बन जाने के मामले में संज्ञान लिया है।

आयोग ने इस सिलसिले में पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर से कार्यवाही का जांच प्रतिवेदन मांगा है। इसी तरह भोपाल के कमला नेहरू स्कूल में साठ साल से चल रहे फाईन आर्ट कार्यक्रम को बंद कर देने एवं इस विषय की शिक्षिका को दूसरे स्कूल में भेज देने से स्कूल में पढ़ रही 34 छात्राओं का भविष्य अंधकारमय होने के मद्देनजर संज्ञान लिया है।

इसी प्रकार राजगढ़ जिले के बसीतलावड़ गांव का निवासी रामप्रसाद द्वारा गांव की नाबालिग लड़की को घर से भगाकर ले जाने पर लड़की के घर वालों द्वारा उसे पकडकर उसके बाल काटकर गले में पट्टा डालकर सड़कों पर घुमाने के मामले में संज्ञान लिया है।

आयोग ने इस मामले में पुलिस अधीक्षक राजगढ़ से प्रतिवेदन तलब कर जानकारी चाहा है कि आरोपी से की गई घटना के संबंध में क्या कोई प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है। वहीं नीमच जिले के भदवा गांव में दबंगों ने दलित दूल्हे को घोड़े से उतारने के मामले में संज्ञान लिया है। आयोग ने इस मामले में पुलिस अधीक्षक नीमच से पंजीबद्ध प्रकरण के अनुसंधान का प्रगति प्रतिवेदन तलब करते हुए पूछा है कि किन अपराधिक धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है।

अन्य विशेष खबरों के लिए पढ़िये की पंजाब केसरी अन्य रिपोर्ट