गुवाहाटी में लगातार दो दिन चली जीएसटी काउंसिल की मीटिंग के बाद सरकार ने बड़ा फैसला लिया है । वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने आम लोगों को बड़ी राहत देते हुए नुकसान देह और विलासिता की मात्र 50 वस्तुओं को ही अब उच्चतम जीएसटी दर 28 फीसदी के दायरे में रखने का निर्णय लिया है जबकि अब तक 227 वस्तुयें इस दायरे में थी।

बिहार के उप मुख्यमंत्री एवं वित्त मंत्री सुशील मोदी ने जीएसटी काउंसिल की यहां चल रही 23वीं बैठक के बीच मीडिया से कहा कि परिषद ने 28 फीसदी जीएसटी के स्लैब में शामिल वस्तुओं की संख्या घटाकर 50 करने का निर्णय लिया है। अब तक 227 वस्तुयें इसके दायरे में थी। इस निर्णय के मद्देनजर 177 वस्तुयें अब 18 फीसदी कर के दायरे में आ जायेंगी। जिन वस्तुओं में जीएसटी में कमी की गयी है उनमें चुइंग गम, चॉकलेट, आफ्टर शेव, डिओड्रंट, वॉशिंग पावउशर, डिटरजेंट, मार्बल आदि शामिल हैं।

बता दे कि पेंट, सीमेंट, वॉशिंग मशीन, फ्रिज और तंबाकू जैसे सामानों पर कोई राहत नहीं मिली है।

उन्होंने कहा कि फिटमेंट समिति ने 62 वस्तुओं को 28 फीसदी कर के दायरे में रखने की सिफारिश की थी, लेकिन परिषद ने 12 और वस्तुओं को इससे हटा दिया है।

देश में 01 जुलाई से लागू जीएसटी के तहत वस्तुओं के लिए पांच तरह के कर स्लैब बनाये गये थे जिनमें शून्य प्रतिशत, पांच प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत शामिल हैं। 28 फीसदी वाले उत्पादों पर राज्यों के लिए क्षतिपूर्ति अधिभार भी लगाये गये हैं।