इस कपल ने तोड़ी कंजरभाट समुदाय की सालों पुरानी प्रथा , नहीं कराया पत्नी का वर्जिनिटी टेस्ट


महाराष्ट्र के पुणे में नई नवेली दुल्हनों का वर्जिनिटी टेस्ट करवाने की कंजरभाट समुदाय की सालों पुरानी प्रथा टूट गई है। सालों पुरानी प्रथा को तोड़ने का काम किया है विवेक तामचिकर और ऐश्वर्या भट ने। विवेक तमाईचिकर और ऐश्वर्या भट ने पुणे के पास पिंपरी में शादी कर की है।

आपको बता दे कि कपल ने शादी के इन्विटेशन कार्ड पर भी वर्जिनिटी टेस्ट का विरोध किया था और लोगों ने शादी में शामिल होकर विरोध को मजबूत करने की अपील भी की थी। शादी में फिल्ममेकर नागराज मंजूले, शिवसेना के नेता और अन्य लोग शामिल हुए।

29 साल के विवेक और 23 साल की ऐश्वर्या ने बीते हफ्ते 12 मई को शादी की है। उनकी सुरक्षा के लिए काफी संख्या में बाउंसर और पुलिसकर्मी मौजूद थे क्योंकि परंपरा का विरोध करने की वजह से बीते वक्त में विवेक पर कथित तौर से हमला भी हो चुका है। एक मीडिया वेबसाइट से बातचीत में विवेक ने कहा है कि वो जब 10 साल के थे तब उन्होंने देखा था कि उनकी एक कजन के साथ लोगों ने शादी के बाद मारपीट की।

इसी वजह से उन्होंने वर्जिनिटी टेस्ट के खिलाफ अभियान शुरू करने का फैसला किया। इतना ही नहीं, उनके एक अंकल ने जब इसका विरोध किया तब उन्हें समुदाय से बहिष्कृत कर दिया गया। उन्होंने कहा कि ऐश्वर्या को इसके लिए कन्विंस करने की जरूरत नहीं पड़ी, क्योंकि वह भी इस प्रथा के खिलाफ थी।

बता दे कि विवेक ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस से पढ़ाई की है। विवेक वाट्सएप ग्रुप और फेसबुक पर ‘स्टॉप द वी रिच्युअल’ नाम से पेज बनाकर लोगों को वर्जिनिटी टेस्ट के खिलाफ जागरुक कर रहे है। हालांकि कांजरभाट समाज इसके सख्त खिलाफ है।

खबरों के के मुताबिक, कंजारभट समुदाय में सुहागरात के वक्त कमरे के बाहर पंचायत के लोग मौजूद होते हैं जो बेडशीट को देखकर ये तय करते हैं कि दुल्हन वर्जिन है या नहीं। अब कैंपेन चला रहे युवाओं का कहना है कि ये प्रथा गलत है, क्योंकि कई बार शादियों को एप्रूव करने के लिए घूस भी देनी पड़ती है।

युवाओं के अनुसार , ये कपल की प्राइवेसी को भी तोड़ना है, जहां कोई तीसरा उनके रिलेशनशिप को तय करता है। इसी कम्युनिटी की एक महिला प्रियंका ने कहा था कि अगर बेडशीट पर खून के धब्बे नहीं पाए जाते हैं तो ये मान लिया जाता है कि दुल्हन के पहले से रिलेशन रहे हैं। कई बार महिलाओं के साथ मारपीट भी की जाती है।

पिछले साल 25 नवंबर को यरवदा के रहने वाले 21 साल सिद्धांत इंद्रकर ने जाति पंचायत की शिकायत पुलिस से भी की थी। सिद्धांत का कहना था कि उन्होंने तिंगरे नगर में पंचायत के कारनामे को कैमरे में रिकॉर्ड किया है जब वे एक कपल से शादी एप्रूव करने के लिए 10 हजार रुपये ले रहे थे।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।