कपिल मिश्रा का ट्रिपल अटैक


नई दिल्ली : दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने केजरीवाल सरकार पर ट्रिपल अटैक किया। उन्होंने सीबीआई दफ्तर पहुंच कर दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येन्द्र जैन द्वारा केजरीवाल को पैसे देने के मामले में केस दर्ज करवाने की अर्जी दी, दूसरी शिकायत आम आदमी पार्टी के नेताओं द्वारा फंड का दुरुपयोग कर विदेशी दौरे करने की है और तीसरी शिकायत उन्होंने जमीन सौदों को लेकर की है। इस सबसे दिल्ली की सियासत का पारा काफी चढ़ गया है। सीबीआई के पास भी केस लेने के अधिकार सीमित हैं। पहले तो वह कोर्ट के आदेश पर कोई केस ले सकती है या फिर कोई राज्य सरकार उसके पास कोई मामला जांच के लिए भेजे, लेकिन दिल्ली केंद्र के अधीन आता है।

इसलिए उम्मीद है कि कपिल मिश्रा की अर्जी पर कानूनी पहलुओं को आगे देखा जाएगा। इससे पहले कपिल ने अरविंद केजरीवाल को संबोधित करते हुए मीडिया के सामने एक पत्र पढ़ा। उन्होंने अरविंद केजरीवाल को चुनौती दी कि इस्तीफा देकर किसी भी सीट से चुनाव लड़ लें। सीट आप चुनें, मैं आपके खिलाफ लडऩे को तैयार हूं। उन्होंने सीबीआई में जाने से पहले कहा कि भ्रष्टाचार के लिए लडऩा और सच के लिए अडऩा आप से ही सीखा है। जिस गुरु से धनुष-बाण सीखा आज उसी पर तीर चलाना है। मन बहुत भारी है। अरविंद केजरीवाल आप जानते हैं कि मैं किस पैसे के लेन-देन की बात कर रहा हूं। उस दिन मैंने एसीबी को खत न लिखा होता तो आप मुझे आनन-फानन में न निकालते। आपके पास धन-बल है और मैं अकेला हूं।कपिल मिश्रा ने आरोप लगाया है कि आप नेताओं का काम देश विरोधी है।

आप नेताओं की विदेश यात्राओं की डिटेल्स सार्वजनिक होनी चाहिएं। अगर डिटेल्स सार्वजनिक नहीं हुई तो मैं भूख हड़ताल पर बैठूंगा। उन्होंने कहा कि संजय सिंह, आशीष खेतान, सत्येन्द्र जैन, राघव चड्ढा और दुर्गेश पाठक की यात्राओं की जानकारी सार्वजनिक की जाए। उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटे में उनके पास आम आदमी पार्टी के भ्रष्टाचार की 211 शिकायतें आई हैं। कपिल मिश्रा 11 मई को एसीबी के सामने पेश होकर टैंकर घोटाले में बयान दर्ज कराएंगे। दूसरी तरफ दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि वह बर्खास्त मंत्री कपिल मिश्रा के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करेंगे। उन्होंने कहा कि एक मनगढ़ंत आरोप में उनकी छवि खराब की जा रही है। वह और उनका परिवार भारी मानसिक प्रताडऩा झेल रहे हैं। जैन ने कहा कि आरोप लगाया जा रहा है कि मैंने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास जाकर अरविंद केजरीवाल को दो करोड़ रुपये दिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री आवास पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज निकलवा ली जाए। मैं शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास पर गया ही नहीं था।