भाजपा की डूबती नैया का खेवनहार बना संघ


रायपुर : आरएसएस के सरकार्यवाहक कृष्ण गोपाल कृष्ण राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल की उपस्थिति में मुख्यमंत्री रमन सिंह और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक के साथ बैठक पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि नवंबर 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की दुर्दशा का एहसास संघ को हो गया है। अब संघ भाजपा की डूबती नैया का खेवनहार बनकर उतरा है।

संघ के आठों आनुषंगिक संगठनों के प्रमुखों ने कृष्ण गोपाल कृष्ण और रामलाल अग्रवाल से चर्चा में भाजपा सरकार के प्रति छत्तीसगढ़ की जनता की नाराजगी की जानकारी प्राप्त कर ही ली है। भूपेश बघेल ने संघ से पूछा है कि क्या संघ अब सांस्कृतिक संगठन से राजनीतिक संगठन बनकर इस राज्य में 14 साल से सत्तासीन भ्रष्टाचार में लिप्त कमीशनखोर सरकार को बचाने में महती भूमिका निभायेगा ?

राज्य में संघ से जुडे़ लोगों के दाना-पानी उठने की चिंता में सत्ता-संगठन के साथ बैठकर राज्य के प्रति अपने जिम्मेदारी से भागने वाले संगठन संघ की असलियत राज्य की जनता के सामने आ चुकी है। संघ को देश से, छत्तीसगढ़ से, जनता से, धर्म से, गौरक्षा से, किसी से कोई सरोकार नहीं है। संघ द्वारा रमन सिंह की भ्रष्ट वादा खिलाफी करने वाली सरकार के बचाव में उतरने से यह स्पष्ट हो गया है।

जब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का ध्यान छत्तीसगढ़ में भाजपा नेताओं की गौ-शालाओं में हो रही गौ-हत्याओं की ओर दिलाया गया था तब आरएसएस ने कहा कि हम एक सांस्कृतिक संगठन है। रमन सरकार के भ्रष्टाचार की ओर ध्यान दिलाया गया तब उन्होंने कहा कि हमारे सांस्कृतिक संगठन हैं और आज जब भाजपा की हालत पतली होती नजर आ रही है, आगामी चुनाव में भाजपा की हार तय दिखाई दे रही है लगातार परिणाम आ रहे हैं।

तब आरएसएस के नेता दिल्ली से आरएसएस के कार्यालय में मुख्यमंत्री और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को बुलाकर बैठक करते हैं कि आगामी चुनाव में कैसी रणनीति बनाई जाए इससे आरएसएस का दोहरा आचरण उजागर हो गया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने संघ कार्यवाहक के द्वारा भाजपा सत्ता और संगठन की ली गई बैठक पर सवाल खड़े करते हुए राज्य की भाजपा सरकार की भ्रष्टाचार, कमीशनखोरी,

भाजपा नेताओं की गौ-शाला में सैकड़ों गायों की हत्या, किसान आत्महत्या, अनुसूचित जाति-जनजाति उत्पीड़न, महिला सुरक्षा, युवाओं के रोजगार, राज्य से गायब हुई बच्चियों-महिलाओं, सरकार के शराब बेचने के मुद्दे उठाये थे तब संघ ने स्वयं को सांस्कृतिक संगठन बताकर रमन सरकार की विफलताओं से पल्ला छाड़ लिया था। अब जब राज्य की ढाई करोड़ जनता भाजपा की भ्रष्ट सरकार को हटाकर कांग्रेस की सरकार बनाने का मन बना चुकी है तब संघ सांस्कृतिक संगठन का चोला उतारकर भाजपा की डूबती नैया का खेवनहार बनकर राजनीतिक संगठन की भूमिका में आ गया है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने संघ कार्यवाहक से पूछा था कि क्या आपने भाजपा सरकार के साथ हुयी इस बैठक में सरकार से किसानों का बकाया धान का समर्थन मूल्य एवं बोनस कब देंगे इस पर पूछताछ की? राज्य से गायब हुई महिलाओं एवं बच्चीयों के संबंध में जवाब मांगे?

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पड़े पंजाब केसरी अख़बार