मुख्यमंत्री के रियलिटी चेक में 26 डीएम फेल


बिजनौर: बुधवार को मुख्यमंत्री के रियेएलटी चेक में फेल हुए 26 जिलों के जिलाधिकारियों में बिजनौर के डी.एम. भी बताये गये जबकि जिलाधिकारी पूर्व की भांति प्रातः 9 बजे से 11 तक कलैक्ट्रेट स्थित अपने कार्यालय कक्ष में उपस्थित थे और जनसामान्य की शिकायतों को सुन कर उनका निराकरण के लिए कार्यवाही कर रहे थे। टेलीफोन सुनने के लिए नियुक्त लिपिकीय वर्ग के कर्मचारियों के अनुपस्थित रहने के कारण शासन से प्राप्त उक्त टेलीफोन कॉल को उनके कार्यालय कक्ष तक फार्वड नहीं किया जा सका, जिसके कारण टेलीफोन कॉल रिसीव किया जाना सम्भव नहीं हो सका। जिलाधिकारी जगतराज ने जानकारी देते हुए बताया कि बुधवार को मुख्य सचिव स्तर से जिले में जिलाधिकारियों की प्रातः 9 बजे से 11 तक कार्यालयों में उपस्थित होने की जांच करने के लिए पीएनटी नम्बर पर कॉल की गयी थी, जिसके दौरान बिजनौर सहित 26 जिलों के जिला अधिकारियों का अपने कार्यालय में अनुपस्थित होना प्रकाश में आया।

जिलाधिकारी जगतराज ने उक्त प्रकरण के सम्बन्ध में स्पष्ट करते हुए कहा कि कि 17 जुलाई, 17 को भी वह पूर्व की भांति प्रातः 9 बजे से 11 तक कलैक्ट्रेट स्थित अपने कार्यालय कक्ष में उपस्थित थे और जनसामान्य की शिकायतों को सुन कर उनका निराकरण के लिए कार्यवाही कर रहे थे। उन्होंने बताया कि इस अवधि के दौरान जिलाधिकारी कार्यालय में प्राप्त होने वाले टेलीफोन को कलैक्ट्रेट स्थित कक्ष में टेलीफोन सुनने के लिए नियुक्त लिपिकीय वर्ग के कर्मचारियों के अनुपस्थित रहने के कारण शासन से प्राप्त उक्त टेलीफोन कॉल को उनके कार्यालय कक्ष तक फार्वड नहीं किया जा सका, जिसके कारण टेलीफोन कॉल रिसीव किया जाना सम्भव नहीं हो सका।

श्री जगतराज ने बताया कि उनके द्वारा शासन द्वारा प्रातः 9 बजे से 11 तक कार्यालय में उपस्थित रहने और इस अवधि में पूरी गंभीरता से जन सामान्य शिकायतें सुनने और उनका गुणवत्तापूर्वक निराकरण करने सहित शासन के सभी आदेशों का गंभीरतापूर्वक पालन सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि टेलीफोन कॉल रिसीव करने के लिए नियुक्त किये गये कर्मचारियों द्वारा अनुपस्थित रहने के कारण मुख्य सचिव कार्यालय से प्राप्त होने वाले टेलीफोन को रिसीव न कर सकने के कृत्य को गम्भीरता से लेते हुए अपने कर्तव्य के प्रति घोर लापरवाही बरतने और अनुशासनहीनता का प्रदर्शन करने करने संबंधित के विरूद्व अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लायी जा रही है।

– इकबाल अहमद