योगी सरकार के किसी मंत्री को जनपद में नहीं घुसने देंगे


झांसी: देश और उत्तर प्रदेश में घट रहीं आपराधिक घटनाओं के विरोध में शनिवार को समाजवादी पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के जन्म दिन के मौके पर सूबे की योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने किसान से लेकर आम जनता और सपा कार्यकर्ताओं के साथ मौजूदा सरकार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया। शनिवार को जनपद के कचहरी परिसर के पास स्थित गांधी उद्यान में हजारों के तादाद में समाजवादी पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के जन्मदिन पर केक काटा। इसके बाद झांसी से राज्यसभा सांसद डा.चंद्रपाल यादव ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सूबे की मौजूदा योगी सरकार पर जमकर हमला बोला।

उन्होंने योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस तरह देश के प्रधानमंत्री ने लोकसभा चुनाव के दौरान जनता से झूठे वादे किये और चुनाव जीतने के बाद उन वादों को उनके सिपहसालार अमित शाह ने उन वादों को जुमला बताया था। इसी तर्ज पर सूबे के मुख्यमंत्री बने बैठे भाजपा के योगी आदित्यनाथ ने भी प्रदेश की जनता और किसानों से उनका कर्ज माफ़ करने चौबीस घंटे बिजली देने, प्रदेश की सड़कों को पन्द्रह जून से पहले गड्ढा मुक्त करने के जो वादे किये थे वह भी पीएम द्वारा किये गए झूटे वादों के समान ही सिद्ध हुए हैं। डा.यादव ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि हम गांधी वादी तरीके से सरकार का विरोध करते हैं तो भाजपा सरकार प्रशासन से मिलकर हमारे कार्यकर्ताओं पर झूठे मुक़दमे लिखा देती है।जिसे अब बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने भाजपा सरकार को चेताते हुए कहा कि हम गांधी को मानते तो सरदार भगत सिंह और चन्द्र शेखर को भी मानते हैं। डा.यादव ने मीडिया के माध्यम से योगी सरकार को ये सन्देश दिया कि यदि किसानों का कर्ज माफ़ और सपा कार्यकर्ताओं पर लिखाये गए झूठे मुक़दमे वापस नहीं लिए जाते, तो सपाई सरकार की ईंट से ईंट बजा देंगे और प्रदेश के किसी भी मंत्री को झांसी में घुसने नहीं देंगे। वहीं गरौठा से सपा के पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव ने कार्यकर्ताओं से मुखातिव होते हुए भाजपा सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भाजपा सरकार केवल अमीरों और सूटबूट वालों की सरकार है,जबकि समाज वादी सरकार गांवों से ही जुड़कर चली है।

उन्होंने मौजूदा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि हमारे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गांवों के बच्चों को लैपटाप बांटे थे जिन्हें योगी सरकार ने वापस ले लिया। पूर्व विधायक का कहना था कि सत्ताधारी दल सपा कार्यकर्ताओं को डराने धमकाने के मकसद से पुलिस का बेजा इस्तेमाल करके उन पर झूठे मुकदमे लिखा रही है जो कि बर्दास्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि यदि पुलिस किसी भी कार्यकर्ता के विरुद्ध झूठा मुकदमा लिखती है तो उसी समय सौ कार्यकर्ता भी अपनी गिरफ्तारी दें।वहीं धरना स्थल पर पहुचे एसडीएम ने सपा नेताओं से बात कर ज्ञापन लिया। इस दौरान भारी तादाद में पुलिस व पीएसी के जवान निगरानी करते रहे।

– एम.वसीम