एएमयू प्रोफेसर ने पत्नी को व्हाट्सएप पर दिया तलाक, पत्नी ने लगाई PM-CM से गुहार


whatsapp

सुप्रीम कोर्ट के एक साथ तीन तलाक को अवैध करार दिए जाने के बाद भी मुस्लिम समाज के लोग इसका अभी भी धड़ल्ले से इस्तेमाल कर रहे हैं। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में संस्कृत विभाग के प्रोफेसर ने अपनी पत्नी को व्हाट्सऐप के जरिए तलाक दे दिया। जी हां, प्रोफेसर की पत्नी ने अपने पति पर व्हाट्सएप के जरिए उन्हें तलाक देने का आरोप लगाया। पीड़ित पत्नी अब मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक इंसाफ की गुहार लगा रही है।

महिला ने पिछले सप्ताह पुलिस के पास जाकर आरोप लगाया कि उनका पति उन्हें ‘परेशान’ कर रहा है और उसने उन्हें घर में घुसने से रोकने के लिए घर में ताला लगा दिया है। अलीगढ़ के एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने कहा कि पत्नी पिछले सप्ताह उनसे मिली और आरोप लगाया कि उसके पति ने उसे व्हाट्सएप पर दो बार ‘तलाक’ के नोटिस भेजे। पांडेय ने कहा, ‘उन्होंने हमसे अनुरोध किया कि इस मामले को निपटाया जाए।

उन्होंने कहा कि उत्पीड़न और पत्नी को घर में घुसने से गलत तरीके से रोकने के आरोप में प्रोफेसर के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया। पांडेय ने कहा कि पुलिस को मामले की जानकारी है। इस बात की जांच की जा रही है कि कौन सी धारा लगाई जाए। वही, प्रोफेसर ने दावा किया कि उनके पास दस्तावेजी सबूत हैं जो साबित करेंगे कि उनकी पत्नी ने अपने अतीत के बारे में उन्हें गुमराह किया।

उन्होंने कहा कि उन्होंने पत्नी के साथ टकराव से बचने के लिए अपना आधिकारिक बंगला स्वेच्छा से छोड़ दिया। इस बीच, महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर आरोप लगाया कि उनके पति ने उच्चतम न्यायालय के ‘तीन तलाक’ पर हालिया फैसले के खिलाफ कदम उठाया।