जिलाधिकारी और एसएसपी के आदेशों की उड़ाई धज्जियां


एटा: यातायात नियमों का सख्ती से पालन कराने के लिए जिलाधिकारी और एसएसपी ने शनिवार से नो रूल की मुहिम चलाई पर रविवार को दूसरे दिन पम्पकर्मियों ने इस मुहिम को बट्टा लगा दिया। जिलाधिकारी अमित किशोर और एसएसपी अखिलेश चौरसिया ने पेट्रोल पम्प एसोसिएशन और प्रेस के साथ कई दिन पहले बैठक करके बिना हेलमेट पेट्रोल न मिलने के नियम को लागू करने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद पम्प कर्मी इसे अनदेखा करते हुए बिना हेलमेट के वाहन स्वामियों की गाड़ियों में पैट्रोल भरते नजर आए। जिलाधिकारी और एसएसपी ने शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए दुपहिया वाहन चालकों को बिना हेलमेट और कार चालकों को बिना सीट बेल्ट लगाए पेट्रोल व डीजल नहीं देने के निर्देश दिए थे।

पेट्रोल पम्प मालिकों से बातचीत के बाद नियम को शनिवार से लागू किया गया। पर इस मुहिम की पहले ही दिन अनदेखी करते हुए अधिकांश पेट्रोल पम्पों पर पेट्रोल व डीजल दिया गया, रविवार को तो हद हो गई, चार में से एक वाहनस्वामी हेलमेट पहनकर पेट्रोल ले रहा था, जबकि तीन बगैर हेलमेट की ही वाहनों में पेट्रोल भरवा रहे थे या फिर एक दूसरे से हेलमेट लेकर काम चला रहे थे। पेट्रोल पम्पों पर स्टिकर लगाये गये हैं कि हेलमेट नहीं तो पेट्रोल नहीं, इसके बावजूद पम्प कर्मी नियम नहीं मानने वालों को पेट्रोल डीजल देते नजर आए। हालांकि इसका सख्ती से पालन कराने के लिए पुलिसकर्मी मुस्तैद दिखे। पुलिसकर्मियों ने कई पेट्रोल पम्पों पर वाहन चालकों को रोका और उन्हें इस बारे में बताया। कई जगहों पर चैकिंग लगाकर वाहन चालकों को इस बावत हिदायत भी दी गई।