डीएम ने किया कोतवाली देहात का निरीक्षण


बुलन्दशहर: जिलाधिकारी डॉरोशन जैकब द्वारा थाना कोतवाली देहात का गहनता से निरीक्षण करते हुए थाना अभिलेखों एवं विभिन्न पंजिकाओं में पायी गयी कमियों को दूरस्त करने के निर्देश प्रभारी निरीक्षक को दिये। जिलाधिकारी ने निर्देशित करते हुए कहा कि लंबित विवेचनाओं को शीघ्र निस्तारण करते हुए पीड़ित को न्याय दिलाया जाये। वांछित अपराधियों की शीघ्र गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाये। उन्होंने ईवी टीसिंग, चैन स्कैनिंग एवं हाइवे होल्डप की घटनाओं पर त्वरित कार्यवाही कर आम जनता में सुरक्षा की भावना पैदा करें। उन्होंने कहा कि थानों में भूमि विवाद रजिस्टर के रख रखाव के लिए जिसमे पक्षकारों को थाना दिवस पर बुलाकर भूमि विवादों का राजस्व कर्मियों की सहायता से निस्तारण कराया जाये। विवादों को अतिशीघ्र निपटाने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। निरीक्षण के दौरान थाना अभिलेखों को पूर्ण करने के आदेश जिलाधिकारी द्वारा दिये गये।

उन्होंने संगठित अपराधियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। थाना परिसर के आस-पास लावारिस वाहनों का अंबार देखकर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए प्रभारी निरीक्षक को स्थानीय मजिस्ट्रेस्ट से सम्पर्क कर अतिशीघ्र इनकी नीलामी की कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने माल मुकदमात के मामलों में भी पैरवी कर वाहनों का निस्तारण करने के आदेश के साथ ही थाना परिसर में खड़े निष्प्रयोजित वाहनों को व्यवस्थित रूप से सड़क से दूर खड़ा करने के निर्देश दिए जिससे सड़क पर जाम की स्थिति उत्पन्न न हो। जिलाधिकारी ने जमानती एवं गैर जमानती तथा समनों की समय पर तामिला किय जाने एवं विभिन्न मामलों में गवाहों की न्यायालयों में उपस्थिति सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए जिससे पीड़ित को समय पर न्याय मिल सके। जिलाधिकारी ने थाना पुलिस को एन्टी राईटस स्कीम/ड्रील करने एवं शस्त्र तथा सुरक्षात्मक सामग्री का संयत रख रखाव के निर्देश प्रभारी निरीक्षक को दिये।

जिलाधिकारी द्वारा 107/116 में नामजद व्यक्ति वास्तविक रूप से पाबंद मुचलका कराये जाने के निर्देश के साथ ही हिस्ट्रीशीटर, गैंगेस्टर अपराधियों की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने थाना परिसर का भ्रमण किया और पुलिसकर्मियों से उनकी समस्याओं की भी जानकारी हासिल की। उन्होंने विगत दिनों में घटित हुये अपराधों के बारे में भी थाना द्वारा की गयी कार्यवाही की समीक्षा की। जिलाधिकारी द्वारा यह भी निर्देश दिये कि पैदल गश्त के दौरान जनता से मित्रभाव से सम्पर्क करते हुए स्थानीय लोगों से संवाद कर गांव की समस्याओं एवं विवादों की जानकारी भी हासिल करने की हिदायद दी। उन्होंने प्रभारी निरीक्षक को आरोप पत्र समय पर दाखिल करने के निर्देश भी दिये साथ ही गांव में चौकीदारों के रिक्त पदों की भी जानकारी हासिल की।

जिलाधिकारी ने इस मौके पर विभिन्न अपराधों के अभिलेख, अन्तिम रिपोर्ट, घटित हुय जघन्य अपराधों, लूट-चोरी, डकैती, पशु चोरी आदि अपराधों के विरूद्ध की गयी कार्यवाहियों के अभिलेखों की पड़ताल की। उन्होंने धार्मिक त्यौहार रजिस्टर, भूमि विवाद एवं ग्राम सुरक्षा समिति की सक्रियता, थाना समाधान दिवस में प्राप्त शिकायतों का निस्तारण आदि की गहनता से समीक्षा करते हुए अवैध वसूली करने वालों के विरूद्ध निरोधात्मक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान प्रभारी निरीक्षक अमरेश कुमार सिंह एवं संबंधित पुलिसकर्मी उपस्थित रहे।

– अशोक शर्मा, त्रिलोक चंद