डीएम ने किया सड़कों का निरीक्षण


बुलन्दशहर: जिलाधिकारी ने निरीक्षण करते हुए नुमाईश रेलवे फाटक से भूड़ तक बनाये जा रहे बुलन्दशहर विकास प्राधिकरण द्वारा सड़क का गहनता से निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने बुलन्दशहर विकास प्राधिकरण के ठेकेदार तुषार सिंह को समय पर कार्य प्रारम्भ न किये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्हें निर्देश दिये कि तत्काल दोनों ओर की सड़कों का निर्माण गुणवत्ता के आधार पर किया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि वर्षा आरम्भ होने से पूर्व ही कार्य पूर्ण कर लिया जाये। जिलाधिकारी ने संबंधित ठेकेदार से कार्य के बारे में पूछा तो वह सन्तोषजनक जबाव न देने पर उन्होंने कहा कि यदि कार्य सही समय से पूर्ण नहीं किया गया तो आपके कार्य को किसी अन्य दूसरे ठेकेदार को आवंटित करते हुए पूरा कराया जायेगा और आपके सभी भुगतान रोक दिये जायेंगे। उन्होंने स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि तीब्र गति से आज ही सड़क निर्माण का कार्य आरम्भ कर दिया जाये इसमें किसी भी प्रकार की कोई भी शिथिलता न बरती जाये।

इसके तदोपरान्त पी डब्लूडी द्वारा बीसा कालोनी में बनायी जा रही सीसी रोड़ का जिलाधिकारी ने निरीक्षण करते हुए बीसा कालोनी के नागरिकों ने अवगत कराया कि पानी की निकासी न होने के कारण पानी दूसरी गलियों का आकर भर जाता है, जिससे आने जाने वाले लोगों को काफी परेशानी होती है। उन्होंने बीसा कालोनी के नागरिकों को आस्वश्त करते हुए कहा कि पानी की निकासी के लिए फिलहाल कच्चे नाले की व्यवस्था कराने के निर्देश पी डब्लूडी विभाग को दे दिये हैं। जिलाधिकारी ने पी डब्लूडी को स्पष्ट निर्देश देते हुए का कि सीसी रोड़ का कार्य समय रहते पूर्ण कर लिया जाये क्योकि बरसात होने से कार्य में बाधा उत्पन्न हो सकती है। इसलिए तीब्र गति से कार्य कराया जाना सुनिश्चित करें तथा पानी की निकासी की व्यवस्था के लिए मैन रोड़ की नाली से जोड़ दिया जाये।

जिलाधिकारी ने (एन0एच0-91) पर भूड़ चौराहा से नहर तक की रोड़ का निरीक्षण किया तथा वहां सड़क पर गढ्ढे भरे हुए मिले। उसके बाद जिलाधिकारी ने ठण्डी प्याउ से मोहन कुटी तक की रोड़ का निरीक्षण किया जिलाधिकारी ने टूटी हुई सड़क पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने अधिशासी अभियान्ता खुर्जा को निर्देश दिये कि सड़क को तत्काल गढ्ढा मुक्त किया जाये। अधिशासी अभियन्ता खुर्जा ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि गढ्ढे भरे जाने के लिए रू0 14 लाख तथा रोड़ बनाये जाने के लिए रू0 24 लाख शासन से प्राप्त हुए हैं किन्तु ई टेण्डरिंग की व्यवस्था के अनुरूप टेण्डर न होने के कारण यह कार्य पूर्ण नहीं हो सका है।

– अशोक शर्मा