डीएम ने एसडीएम और तहसीलदार को दी चेतावनी


झांसी: जिलाधिकारी ने तहसील समाधान दिवस पर मोठ तहसील में पहुंच कर लोगों की समस्याओं को सुना तथा शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिये। इस मौके वरिष्ठ अधिकारियों सहित गरौठा विधायक भी मौजूद रहे। जिलाधिकारी कर्ण सिंह चौहान ने अध्यक्षता करते हुए तहसील समाधान दिवस मोंठ में शासकीय पत्रावलियों को निस्तारण के लिए अनावश्यक ढंग से लम्बित रखने पर तहसीलदार को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिये। साथ ही पेशकार, राजस्व निरीक्षक को प्रतिकूल प्रविष्टि के साथ शासकीय कार्यों को विलंबित रखने पर अनिवार्य सेवानिवृत्त किये जाने की चेतावनी दी। डीएम ने शिथिल पर्यवेक्षण पर एसडीएम और तहसीलदार को चेतावनी दी। किसान से गेहूं लेने के बाद अब तक भुगतान न करने पर डीसी डीएफ मोठ के केंद्र प्रभारी की एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिये।

डीएम ने मौजूद अधिकारियों को ताकीद करते हुए कहा कि जिम्मेदारियों का सही निर्वहन किया जाए। जो भी शिकायते प्राप्त हों,उनका गुणवत्ता के साथ निस्तारण किया जाए। शिकायते आईआरस पोर्टल पर हैं इस लिए इसकी मानिटरिंग मुख्यमंत्री द्वारा की जाती है। अत: संवेदनशील होकर शिकायतों का निस्तारण हों। उन्होंने राशन कार्ड सत्यापन के लिए लेखपालों से संवेदनशील होकर सत्यापन करने को कहा। ग्राम सौराई चंदार के अनेकों ग्रामीणों ने पत्र देते हुए वर्ष 2015 से 17 तक ग्राम प्रधान,पूर्व सचिव व वर्तमान सचिव ओमप्रकाश निरंजन द्वारा कराये गये विकास कार्यों की जांच जिला स्तर के अधिकारी से कराये जाने मांग की।

जिसपर डीएम ने मौके पर ही डीपीआरओ को जांच कर आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। किसान अर्जुन सिंह निवासी नंद खास ने बताया कि एफसीआई सरकारी केंद्र सेमरी में कुल 45.50 कुंतल गेहूं एक जून को डाला था, जिसकी रसीद पांच जून को दी गई। वहीं केंद्र प्रभारी द्वारा भुगतान नहीं दिया जा रहा है। डीएम ने आरएमों को जांच के निर्देश दिये। इस मौके पर एसएसपी जेके शुक्ला, सीएमओ विनोद यादव, डीएफओ डा.एमके शुक्ल, एसडीएम सुरेंद्र कुमार आदि अधिकारी मौजूद रहे।

– एम.वसीम