दहेज हत्या के आरोपी पति को दस वर्ष की कारावास सजा


बांदा : उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की स्थानीय अदालत ने छह साल पुराने दहेज हत्या के मामले में आरोपी पति को 10 वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। अभियोजन पक्ष के अनुसार बबेरू कस्बे के अंबेडकरनगर मोहल्ला निवासी धर्मेंद, के साथ ममता उर्फ पिंकी पटेल पे 28 मई, 2006 को एक मंदिर में प्रेम विवाह किया था।

शादी के बाद पति धर्मेंद्र ससुर रामस्वरूप और सास ललिता ने ममता के मायके वालों से अतिरिक्त दहेज की मांग की थी। दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर ससुराल वाले ममता का उत्पीडऩ करने लगे। बाद में 29 मई, 2011 की रात्रि ससुराल वालों ने मार पीटकर कर फांसी पर लटका दिया गया जिससे उसकी मृत्यु हो गई थी। मामले की सुनवाई के बाद अपर जिला सत्र न्यायाधीश(प्रथम) हरेंद, प्रताप ने दहेज के लिए पत्नी की हत्या के आरोपी धमेन्द, को दोषी करार देते हुए दस वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाई जबकि ससुर रामस्वरूप, सास ललिता को संदेह का लाभ देकर दोष मुक्त कर दिया।

अदालत ने महिला उत्पीडऩ की धारा 498-ए में भी तीन वर्ष के कारावास और 5000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई। अर्थदंड अदा न करने पर दो माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। फैसले के अनुसार सभी सजाएं एक साथ चलेंगी और जेल में बिताई गई अवधि सजा में समायोजित होगी। अभियोजन पक्ष की ओर से मुकदमें में सात गवाह पेश किए गए थे। पुलिस ने बताया कि आरोपी तीन जुलाई, 2011 को गिरफ्तारी के बाद से आज तक जेल में ही है।