रामपुर कोर्ट में वकीलों की गुंडागर्दी, Client को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, वीडियो कैद


रामपुर  : रामपुर कोर्ट के बाहर वकीलों की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, चालान छुड़वाने को लेकर वकील और ग्राहक में विवाद हो गया। इसके बाद वकील और कुछ साथियों ने मिलकर ग्राहक को कोर्ट के बाहर ही मारा-पीटा। बताया जा रहा है कि कोर्ट परिसर के सामने ही एसपी ऑफिस है लेकिन किसी ने इस दौरान विरोध नहीं किया।

 

वहीं क्लाइंट का कहना है कि एक चालान छुड़वाने के लिए वकील को पांच हजार रुपए की फीस दी थी लेकिन जब वकील इसमें कामयाब नहीं हो पाया तो क्लाइंट ने अपनी फीस वापस मांगी जिसपर वकील आक्रामक हो गया और उसने साथियों के साथ मिलकर क्लाइंट की पिटाई की।

 

यह है पूरा मामला…
बताया जा रहा है कि बुधवार सुबह वकील सौरन सिंह अपने चैंबर में अचानक छेदालाल नामक एक शख्स की पिटाई शुरू कर दी। छेदालाल डर के कारण चिल्लाते हुए बाहर भागा, लेकिन वकील उसे बीच सड़क पर दौड़ा-दौड़ाकर पीटने लगा। इतना ही नहीं बाद में दूसरे वकील भी सौरान सिंह के साथ मिलकर शख्स की पिटाई करने लगे। सबसे बड़ी बात यह कि सामने एसपी ऑफिस होते हुए भी किसी ने उस शख्स को बचाने की कोशिश नहीं की। सौरन सिंह की यह करतूत कैमरे में कैद हो गई। हालांकि, बाद में कुछ लोगों ने घायल शख्स को अस्पताल में भर्ती कराया।

जब छेदालाल से बात की तो उसका कहना था, ‘ मैं सहजादनगर इलाके का रहनेवाला हूं और एक केस के सिलसिले में इस वकील से मिला था। उसका कहना था,’ मेरे जानलेवा एक व्यक्ति जेल में है और वकील ने पांच हजार रुपए लेकर उसे छुड़वाने की बात कही थी। लेकिन, उसने खुद पैसे रख लिए और जब मैंने इस बारे में उससे बात की तो मुझे मारना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं मेरे जेब से और भी पैसे निकाल लिए।’

वहीं, इस मामले में वकील का कहना है, ‘मैने रुपए जरूर लिए हैं और कागजात इलाहाबाद भी भेज दिए हैं। लेकिन, अचानक वह शख्स मेरे कैबिन में आया और मेरा गिरेवान पकड़ लिया, जिसके कारण यह घटना घटी।’ वकील का यह भी कहना है कि हम सब वकील मिलकर थाने में शख्स की शिकायत करेंगे। वहीं, पिटाई का वीडियो जब सिटी सीओ को दिखाया गया तो उनका केवल यही कहना था, ‘ अगर शिकायत आती है तो देखेंगे अन्यथा कुछ भी एक्शन नहीं लेगें।’ अब देखना यह होगा कि जिस पुलिस थाने के सामने वकील ने सारी हदें पार कर शख्स की पिटाई की थी, उसे वहां इंसाफ मिलता है या नहीं।