किसान अपना आलू और गेहूं जहां चाहे वहां बेचे: योगी


मेरठ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज कहा कि किसान को उसकी उपज का सही दाम मिलना ही चाहिए। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने आलू और गन्ना किसानों की चर्चा करते हुए कहा कि किसान जहां चाहे वहां अपना आलू और गेहूं बेचें। यदि बाजार में उन्हें सरकारी दर से ज्यादा पैसा मिल रहा है तो वहीं बेचें। इस पर कोई रोक नहीं है। मुख्यमंत्री ने यहां अपने संबोधन में कहा कि जो काम अपने इतिहास को सजों कर नहीं रख सकती वह अपने भूगोल की रक्षा भी नहीं कर सकती। योगी आदित्यनाथ ने आज यहां अपने मेरठ दौरे के दौरान शहर के भैसाली मैदान में एक जनसभा को संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि जाति मजहब से रूपर उठकर देश के विकास की बात करनी चाहिए। 2014 में आपने नरेंद मोदी को प्रधानमंत्री बनाया। आज आप देख रहे हैं कि वह देश ही नहीं बल्कि विश्व में एक लोकप्रिय नेता बन गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सबका साथ-सबका विकास के तहत काम करना चाहते हैं। परिवर्तन सिर्फ राजनीतिक न हो यह सामाजिक भी होना चाहिए। हम भेदभाव नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी एक सूची जारी हुई जिसमें उत्तर प्रदेश का सिर्फ एक शहर साफ शहरों में जगह बना सका। वहीं 52 शहरों को गंदे शहरों को तौर पर चिन्हित किया गया। यह सर्वेक्षण सरकार बनने से पहले का था। इस स्थिति को बदलने की जरूरत है। इसके लिए हमें प्लास्टिक बैग का प्रयोग बंद करना होगा। इससे नालियां भी चोक नहीं होंगी। योगी ने कहा कि मेरठ 1857 की क्रांति ककी धरती है। उन्होंने कहा कि बहन-बेटियों के साथ छेड़छाड़ करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। कार्रवाई में किसी तरह का पक्षपात नहीं होगा। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन अपना काम कर रहा है लेकिन कानून का राज स्थापित करने के लिए सबके साथ की जरूरत है। कोई भी कानून को हाथ में न ले। कहीं कुछ गलत देखें तो पुलिस-प्रशासन को बताएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में तुष्टीकरण की नीति नहीं चलेगी। जाति-मजहब के आधार पर भेदभाव नहीं होगा। अब समय आ गया है कि भारत को विश्व शक्ति बनाने के लिए उथर प्रदेश से ही शुरुआत की जाए। व्यवस्था का संपूर्ण परिवर्तन होना चाहिए। विकास को तेजधार देनी है और इसकी शुरुआत पश्चिमी उथर प्रदेश से ही होगी। प्रधानमंत्री नरेंद मोदी का लक्ष्य है कि समाज के आखिरी व्यक्ति को भी लाभ मिले। बूचडख़ानों पर योगी ने दोहराया कि अवैध बूचडख़ानों को राज्य में नहीं चलने दिया जाएगा।

उच्चतम न्यायालय और एनजीटी के मानकों का पालन करना होगा। इसके लिए अफसरों को सख्त निर्देश दिए गए हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभा में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों और शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया। कार्यक्रम की शुरुआत वंदेमातरम से हुई। मुख्यमंत्री ने खरखौदा में गेंहू क्रय केन्द, का दौरा करके किसानों से बात की और उनकी समस्याओं की जानकारी ली। मेरठ के गढ़ी में अम्बेडकर मूर्ति पर मुख्यमंत्री द्वारा माल्यार्पण नहीं करने से इलाके के लोगों ने हंगामा किया और पुलिस ने लोगों को समझा-बुझा कर शांत कराया।

(भाषा)