भविष्य की परिस्थितियां तय करेंगी महागठबंधन का स्वरूप


कासगंज: बिहार की वर्तमान राजनैतिक उथल-पुथल से कांग्रेस ने शबक लिया है। इसलिए 2019 के लोकसभा चुनाव में महागंठबंधन के बारे में उस समय की परिस्थितियों पर विचार करने के बाद निर्णय लिया जाएंगा यह बात शिवान जिले से जनपद में पधारे वरिष्ठ नेता शिवधारी दूबे ने कही। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा जनपद में भेजे गए जिला चुनाव अधिकारी शिवधारी दुबे ने कांग्रेस के प्रभूपार्क स्थित जिला कार्यालय पर कांग्रेसियों को संबोधित किया। श्री दुबे को जनपद में आगामी संगठन चुनावों के मद्देनजर डीआरओ (जिला चुनाव अधिकारी) नियुक्त किया गया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष डाॅ. शशिलता चैहान के आवास पर संपंन हुई पदाधिकारियों की बैठक के दौरान प्रदेश बिहार के जिले सीवांत से आए चुनाव अधिकारी शिवधारी दुबे ने बताया कि निकाय चुनाव का समय नजदीक आ गया है।

ऐसे में सभी ब्लाक स्तरों पर घूम कर क्षेत्रबार पदाधिकारियों की तैनात करें, ताकि आने वाले निकाय चुनाव में ज्यादा से ज्यादा पार्टी को मजबूती मिले। उन्होने शहर कांग्रेस का बीआरओ राजवीर सिंह राना, ब्लौक कासगंज बीआरओ फारुक कुरैसी, ब्लौक सोरों का सत्यप्रकाश गुप्ता, ब्लौक सहावर योगेश कुमार मिश्र, अमापुर बालकिशन, सिडपुरा के सत्यप्रकाश सोलंकी, गंजडुण्डवारा के नादरा सुल्तान, पटियाली का श्री नरसिंह पाल को नियुक्त किया है।उन्होंने मीडिया कर्मियों के सवाल के जबाव में बताया कि भाजपाई कहते हैं, कुछ और करते हैं कुछ। कांग्रेस सरकार सत्ता में आई थी, तब किसानों का 70 हजार करोड कर्ज माफ किया था, लेकिन बीजेपी की सरकार ने मात्र दिखावा किया है।उतना बीजेपी के लोग कभी नहीं कर सकते।

– जितेन्द्र पाल